https://www.xxzza1.com
Saturday, April 13, 2024
Home देश मुख़्तार अंसारी की जेल में मृत्यु मानवाधिकार का उल्लंघन, कराई जाए सीबीआई...

मुख़्तार अंसारी की जेल में मृत्यु मानवाधिकार का उल्लंघन, कराई जाए सीबीआई जांच: रिहाई मंच

इंडिया टुमारो

लखनऊ | रिहाई मंच महासचिव राजीव यादव ने पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी की जेल में मृत्यु को मानवाधिकार का गंभीर उल्लंघन बताते हुए सीबीआई जांच की मांग की है.

उन्होंने कहा है कि, “मुख़्तार अंसारी के परिजन और कोर्ट में दिए गए उनके प्रार्थना पत्र में उनको खाने में ज़हर दिए जाने की साज़िश, कैद में हत्या की तरफ़ इशारा करती है. इस पूरे प्रकरण की सीबीआई जांच कराई जाए.”

गौरतलब है कि अंसारी के परिजन उनके खाने में ज़हर देने से उनकी तबियत बिगड़ने के बाद उनकी चिकित्सा और सुरक्षा की मांग की जिसको समयनुसार न दिया जाना भी अंसारी के परिजनों के दावे कि ज़हर देकर उनकी हत्या की गई, इसकी जांच करवाई जाने को पुख्ता करता है.

मीडिया को जारी बयान में राजीव ने कहा कि, “यह मामला और गंभीर हो जाता है जब मुख्तार अंसारी के बेटे ने पिछले साल सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि राज्य सरकार बांदा जेल में अंसारी की हत्या करने की योजना बना रही है. जिस पर सरकार ने शीर्ष अदालत को आश्वासन दिया था कि आवश्यकतानुसार सुरक्षा में वृद्धि की जाएगी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि हिरासत के दौरान अंसारी को कोई नुकसान ना हो.”

रिहाई मंच महासचिव राजीव यादव ने कहा कि यह कोर्ट की अवमानना का भी सवाल है.

उन्होंने कहा, “इस याचिका में अंसारी को यूपी से बाहर दूसरी किसी जेल में स्थानांतरित करने की मांग की गई थी. यहां ग़ौरतलब है कि मुख्तार अंसारी को जब पंजाब की जेल से यूपी लाया जा रहा था तब भी उनके परिजनों ने उनकी सुरक्षा और उत्तर प्रदेश सरकार को लेकर सवाल उठाए थे. मौजूदा भाजपा सरकार के दौरान जेल में उनकी सुरक्षा को लेकर परिजनों ने जो संदेह जाहिर किए उन सभी पहलुओं को जांच के दायरे में लाया जाए.”

राजीव ने मांग की है कि, “मुख्तार अंसारी को जेल में धीमा ज़हर दिए जाने और पूर्व में उनकी सुरक्षा को लेकर किए गए सभी सवालों को जांच के दायरे में लाना होगा. यह एक पूर्व विधायक जिनकी कैद के दौरान मृत्यु हुई, से सत्ताधारी राजनीतिक पार्टी के राजनीतिक विद्वेष का भी मामला है, यह आरोप लगते रहे हैं.”

मीडिया को जारी बयान में रिहाई मंच ने कहा है कि, “पिछले दिनों मुख्तार अंसारी की तबियत बिगड़ने के बाद उनके भाई सांसद अफ़ज़ाल अंसारी ने उनसे मुलाकात के बाद बताया था कि उनके खाने में ज़हर मिलाने से उनकी तबियत बिगड़ी और वे बांदा में हो रहे उनके इलाज से संतुष्ट नही थे, इसके बावजूद भी जेल प्रशासन या सरकार द्वारा उनकी इलाज को लेकर कोई विशेष व्यवस्था न करना सवाल खड़ा करता है.”

उन्होंने कहा कि, “एक पूर्व विधायक जिनका आरोप है कि उनको खाने में ज़हर दिया जा रहा है और उनका जीवन संकट में है, लेकिन उनके जीवन को बचाने के लिए सरकार तत्पर नहीं दिखी. मुख्तार की स्थिति इतनी गंभीर थी तो आखिर किसके दबाव में उनको चिकित्सा का समुचित प्रबंध नहीं किया गया. क्या कोई राजनीतिक दबाव था. क्योंकि मुख्तार अंसारी पूर्व विधायक और राजनीतिक व्यक्ति थे.”

मीडिया में मुख़्तार अंसारी के बेटे ने कहा है कि दिन में उनके पिता का फोन आया कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर पेश होने आए थे लेकिन बेहोश हो गए उनकी तबियत बहुत खराब है. मिलने की बात पर उन्होंने कहा कि वह इस स्थिति में भी नहीं हैं कि अपनी बैरक से निकलकर आ पाऊंगा मुझे ज़हर दिया गया है और मुझे बहुत तकलीफ है, मेरी आँतें जल रही हैं और जैसे लग रहा है कि अंदर से सब कुछ काट रहा है.

गौरतलब है कि 21 मार्च को मुख्तार अंसारी की ओर से उनके अधिवक्ता रणवीर सिंह सुमन द्वारा बाराबंकी एमपी एमएलए कोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर प्रार्थी को विषाक्त पदार्थ खिलाने की जांच व सुरक्षा हेतु मांग की गई थी. जिसमें कहा गया है कि 19 मार्च 2024 को रात्रि में प्रार्थी को जो भोजन उपलब्ध कराया गया उसमें कोई विषाक्त पदार्थ मिलाकर खाने में दिया गया था.

अधिवक्ता रणवीर सिंह सुमन ने कहा कि, “विषाक्त पदार्थ खिलाने के कारण प्रार्थी बहुत गंभीर रूप से बीमार हो गया तथा हाथ पैर की नसों में बहुत ज़्यादा दर्द होने लगा और फिर शरीर की संपूर्ण नसों में दर्द होता है, हाथ पैर ठंडा पड़ रहा है, ऐसा लगता है जैसे प्रार्थी की मृत्यु हो जाएगी घबराहट का एहसास हो रहा है.”

मुख्तार अंसारी के वकील ने प्रार्थना पत्र में कहा था कि, इसके पूर्व प्रार्थी लगभग स्वस्थ था. लगभग 40 दिन पूर्व प्रार्थी के खाने में किसी प्रकार का कोई धीमा ज़हर दिया गया था, यह भी आरोप लगाया गया. बांदा कारागार में प्रार्थी को जान का खतरा बढ़ गया है, कभी भी प्रार्थी के साथ कोई अनहोनी घटना हो सकती है, की भी आशंका जाहिर की थी.

वकील ने कहा था कि 19 मार्च 2024 की रात खाने में ज़हर मिलाकर दिया जाना किसी बड़े षड्यंत्र का हिस्सा है.

रिहाई मंच महासचिव राजीव यादव ने सवाल किया कि, गंभीर रूप से बीमार अंसारी ने समुचित इलाज की मांग की थी जो सही वक्त पर मिली होती तो उनकी जान बच सकती थी? इस घटना में जेल प्रशासन की भूमिका भी सवालों को घेरे में है कि कैद में ज़हर दिए जाने के आरोप को छुपाने के लिए क्या उसने समुचित ईलाज नहीं कराया.

उन्होंने कहा, अगर ऐसा नहीं था तो 19 तारीख को जब उनकी तबीयत खराब हुई तो उन्हें किसी बेहतर अस्पताल के लिए रेफर करवा देते. आखिर अंसारी ने जो ज़हर देने का आरोप लगाया उसका जेल प्रशासन के पास क्या जवाब है.

उत्तर प्रदेश में हिरासत में बढ़ते मौत के मामले पर राजीव ने कहा, “यूपी में जेलों में निरुद्ध कैदियों की मौत की खबरें मौजूदा सरकार में आम हो गई हैं. जब पूर्व विधायक को चिकित्सा और सुरक्षा नहीं मिल पा रही है तो सामान्य कैदियों के हालात का अंदाजा लगाया जा सकता है.”

उन्होंने मांग करते हुए कहा, “माननीय उच्चतम न्यायालय से अनुरोध है कि इस मामले को संज्ञान में लेकर प्रदेश में संवैधानिक न्यायिक प्रक्रिया का पालन सुनिश्चित करें.”

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

सुप्रीम कोर्ट ने यूपी मदरसा एक्ट रद्द करने वाले इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाई

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा बोर्ड अधिनियम, 2004 को असंवैधानिक घोषित करने के इलाहाबाद उच्च...
- Advertisement -

मदरसा बोर्ड पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वागतयोग्य, हाईकोर्ट का फैसला राजनीति से प्रेरित था: यूपी अल्पसंख्यक कांग्रेस

इंडिया टुमारो लखनऊ | सुप्रीम कोर्ट द्वारा इलाहाबाद हाई कोर्ट के मदरसा शिक्षा अधिनियम 2004 को असंवैधानिक घोषित करने...

2014 के बाद से भ्रष्टाचार के मामलों में जांच का सामना कर रहे 25 विपक्षी नेता भाजपा में शामिल

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर काफी समय से ये आरोप लगते रहे हैं...

गज़ा में पिछले 24 घंटों में 54 फिलिस्तीनियों की मौत, अब तक 33,091 की मौत : स्वास्थ्य मंत्रालय

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | गज़ा में पिछले 24 घंटों में इज़रायली हमलों के दौरान कम से कम 54...

Related News

सुप्रीम कोर्ट ने यूपी मदरसा एक्ट रद्द करने वाले इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाई

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा बोर्ड अधिनियम, 2004 को असंवैधानिक घोषित करने के इलाहाबाद उच्च...

मदरसा बोर्ड पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वागतयोग्य, हाईकोर्ट का फैसला राजनीति से प्रेरित था: यूपी अल्पसंख्यक कांग्रेस

इंडिया टुमारो लखनऊ | सुप्रीम कोर्ट द्वारा इलाहाबाद हाई कोर्ट के मदरसा शिक्षा अधिनियम 2004 को असंवैधानिक घोषित करने...

2014 के बाद से भ्रष्टाचार के मामलों में जांच का सामना कर रहे 25 विपक्षी नेता भाजपा में शामिल

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर काफी समय से ये आरोप लगते रहे हैं...

गज़ा में पिछले 24 घंटों में 54 फिलिस्तीनियों की मौत, अब तक 33,091 की मौत : स्वास्थ्य मंत्रालय

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | गज़ा में पिछले 24 घंटों में इज़रायली हमलों के दौरान कम से कम 54...

IIT मुंबई के 36 प्रतिशत छात्रों को नहीं मिला प्लेसमेंट, राहुल गांधी ने BJP को बताया ज़िम्मेदार

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने एक रिपोर्ट को साझा करते हुए केंद्र सरकार और...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here