Sunday, December 5, 2021
Home देश कर्नाटक: जिस स्कूल पर देशद्रोह का आरोप लगा वह 244 बेड का...

कर्नाटक: जिस स्कूल पर देशद्रोह का आरोप लगा वह 244 बेड का COVID केयर सेंटर चला रहा है

सैयद सुजील अहमद | इंडिया टुमारो

बैंगलुरू9 अगस्त | नॉर्थ कर्नाटक का एक छोटा सा टाउन बीदर उस समय संकट में आ गया और राष्ट्रीय सुर्ख़ियो का केंद्र बन गया जब फरवरी महीने में यहाँ के एक स्कूल “शाहीन” पर देशद्रोह के आरोप लगाए गए.

जब देशभर में सीएए विरोधी प्रदर्शन चरम पर थे उस समय इस स्कूल में कथित रूप से मोदी विरोधी नारों के साथ एक नाटक का मंचन किया गया था. इस मामले में जिला पुलिस ने 5-9 वर्ष के स्कूली बच्चों की नाटक में शामिल होने पर कठोर तरीक़े से जांच की. इस जांच को बाल अधिकार संगठनों और सिविल सोसायटी द्वारा किशोर न्याय अधिनियम का उल्लंघन बताते हुए पुलिस की कड़ी आलोचना की गई.

येदियुरप्पा सरकार में बीदर के मंत्री श्री प्रभू चव्हाण और जिले के सांसद भगवंत खुबा जो दोनों ही भाजपा से संबंधित हैं, ने स्कूल की मान्यता रद्द करने और स्कूल प्रबंधन के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की थी. एक स्कूल टीचर और एक नौ वर्षीय बच्चे की मां जो कि एक घरेलू नौकरानी व सिंगल मदर हैं, को जेल में डाल दिया गया था और उनका छोटा बच्चा घर पर अकेला था.

वही “शाहीन” स्कूल अब जिला प्रशासन के साथ मिलकर एक बड़े गैर सरकारी COVID-19 केयर सेंटर के रूप में सेवा प्रदान कर रहा है.

पिछले महीने, स्कूल ने शहर के बाहरी इलाके में 4 एकड़ भूमि में फैले अपने नवनिर्मित भवन को 244 बेड वाले अस्थायी COVID-19 केयर सेंटर में बदल दिया जिसमें हल्के या बिना लक्षणों वाले COVID-19 रोगियों के प्रारंभिक उपचार के लिए बुनियादी सुविधाएं प्रदान की गईं हैं.

स्कूल के सीईओ तौसीफ मेडीकरी ने बताया कि, “मरीजों को लाने ले जाने के लिए स्कूल ने एक एम्बुलेंस मुहैय्या कराया है. सेंटर में 27 से अधिक ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध हैं. मेडिकल और पैरामेडिकल स्टाफ में, एक डॉक्टर और चार नर्स स्कूल की ओर से काम कर रहे हैं. मरीजों के इलाज के लिए जिला प्रशासन द्वारा एक और डॉक्टर और तीन नर्स उपलब्ध कराए गए हैं. भोजन की सुविधा भी जिला प्रशासन द्वारा प्रदान की जाती है.”

इंडिया टुमारो से बात करते हुए कोविड केयर सेंटर के प्रशासक क्वाजा पटेल ने बताया कि लगभग 8-10 मरीज भर्ती किए जा रहे हैं और इतनी ही संख्या में मरीज़ डिस्चार्ज भी किए जा रहे हैं. संक्रमण के चरम के समय में 25 मरीज़ भर्ती किए गए थे. उन्होंने आगे बताया कि, “भगवान की कृपा से कोई भी अप्रीय घटना सेन्टर पर नहीं हुई.”

इंडिया टुमारो से बात करते हुऐ जिला प्रशासन द्वारा नियुक्त किए गए इंचार्ज डॉक्टर शफी ने बताया कि, “हम यहां हल्के सिम्पटम वाले मरीजों को ही देख रहे हैं, यदि उनकी हालत गंभीर होती है तो हम उन्हे जिले के बडे़ कोविड-19 सेन्टर में शिफ्ट कर देते हैं.”

मेडिकरि ने बताया कि, “स्कूल पहले निशुल्क भोजन व परिवहन सुविधा के साथ क्वारनटीन करने की सुविधा प्रदान कर रहा था, जिसे पिछले महीने कोविड-19 केयर सेंटर के रूप में बदल दिया गया.”

उन्होंने आगे बताया कि, “चूंकि जिले में कोविड-19 से होने वाली मृत्यु दर लगभग 3.6% के आसपास रही है, जो कि बैंगलुरू के बाद दूसरे नंबर पर रही. इस स्थिति में स्कूल जिले में कोविड-19 के संक्रमण को बढ़ने से रोकने के लिए अपने सक्रिय उपायों के साथ पूरी तरह शामिल रहा.”

मेडिकरी के अनुसार, “स्कूल ने संदिग्ध मरीजों की प्रारंभिक जांच के लिए कुल 43 समर्पित कार्यकर्ताओं को हर वार्ड के लिए नियुक्त किया है. स्क्रीनिंग के बाद यदि किसी में कोविड-19 के लक्षण पाए जाते हैं तो फौरन उस मरीज को डॉक्टर द्वारा परामर्श दिलवाया जाता है, उसे प्राथमिक उपचार दिया जाता है और कॉविड केयर सेंटर में शिफ्ट कर दिया जाता है.

मंदिर,मस्जिद और चर्च का सैनीटाईज़ेशन

स्कूल ने जो अन्य पहल की हैं, उनमें मंदिर, मस्जिद और सभी धार्मिक स्थलों को सेनिटाआईज़ करना भी शामिल है. नाई, धोबियों और ऑटो व टैक्सी ड्राइवरों को राशन किट भी दिए गए. साथ ही स्कूल ने उन्हें सरकारी सहायता प्राप्त करने के लिए रजिस्ट्रेशन करने में भी मदद की. स्कूल के अध्यक्ष श्री अब्दुल कादिर ने खुद की निजी एसयूवी गाड़ी को जिला प्रशासन के उपयोग के लिए लगा  दिया.

स्कूल ने एक कोविड रिसोर्स वेबसाईट www.bidarcovidhelpline.com भी लॉन्च की जो कि www.banglorecovidhelpline.com के साथ संबद्ध है.

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

CAA त्रुटिपूर्ण, यह संविधान के सिद्धांतों के विरुद्ध है: न्यायामूर्ति ए.के. गांगुली (सेवानिवृत्त)

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) एके गांगुली ने कहा है कि 2019 में भाजपा सरकार द्वारा पारित...
- Advertisement -

गुरुग्राम: कट्टरपंथियों द्वारा “जय श्री राम” के नारों के बीच मुसलमानों ने अदा की जुमे की नमाज़

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | भारत की संसद से मात्र 30 किलोमीटर दूर स्थित गुरुग्राम में शुक्रवार को...

राजस्थान: मुसलमानों द्वारा शपथ पत्र देने के बाद भी अधिकारी नहीं बना रहे अल्पसंख्यक प्रमाण पत्र

रहीम ख़ान | इंडिया टुमारो जयपुर | राजस्थान के अजमेर, भीलवाड़ा, पाली और राजसमंद समेत अन्य जिलों में चीता,...

क्या ASI कुतुब मीनार परिसर का संरक्षण कर रहा या इसकी मूल संरचना को नष्ट कर रहा?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | दिल्ली में स्थित ऐतिहासिक स्मारक कुतुब मीनार को लेकर दक्षिणपंथी समूहों द्वारा पैदा...

Related News

CAA त्रुटिपूर्ण, यह संविधान के सिद्धांतों के विरुद्ध है: न्यायामूर्ति ए.के. गांगुली (सेवानिवृत्त)

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) एके गांगुली ने कहा है कि 2019 में भाजपा सरकार द्वारा पारित...

गुरुग्राम: कट्टरपंथियों द्वारा “जय श्री राम” के नारों के बीच मुसलमानों ने अदा की जुमे की नमाज़

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | भारत की संसद से मात्र 30 किलोमीटर दूर स्थित गुरुग्राम में शुक्रवार को...

राजस्थान: मुसलमानों द्वारा शपथ पत्र देने के बाद भी अधिकारी नहीं बना रहे अल्पसंख्यक प्रमाण पत्र

रहीम ख़ान | इंडिया टुमारो जयपुर | राजस्थान के अजमेर, भीलवाड़ा, पाली और राजसमंद समेत अन्य जिलों में चीता,...

क्या ASI कुतुब मीनार परिसर का संरक्षण कर रहा या इसकी मूल संरचना को नष्ट कर रहा?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | दिल्ली में स्थित ऐतिहासिक स्मारक कुतुब मीनार को लेकर दक्षिणपंथी समूहों द्वारा पैदा...

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर में एक ब्राह्मण परिवार पलायन को मजबूर

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो लखनऊ | यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर में अपराधियों की...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here