https://www.xxzza1.com
Sunday, March 3, 2024
Home देश मीरा रोड़ हिंसा : इलाके में शांति, 21 गिरफ़्तार, पुलिस पर एकतरफा...

मीरा रोड़ हिंसा : इलाके में शांति, 21 गिरफ़्तार, पुलिस पर एकतरफा कार्रवाई का आरोप

-उवैस सिद्दीक़ी

मीरा रोड़ (मुम्बई) | बीते 21 जनवरी को मुम्बई के मीरा रोड़ इलाके में राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के पूर्व हिन्दू संगठनों द्वारा निकाली गई रैली के दौरान शुरू हुई हिंसक झड़पों के बाद फ़िलहाल माहौल शांत है.

रिपोर्ट के अनुसार हिंसा से जुड़े मामले में अब तक 21 लोगों की गिरफ़्तारी हो चुकी है. हालांकि, स्थानीय लोगों का पुलिस पर एकतरफा कार्रवाई का आरोप लगाया जा रहा है.

हिंसा और झड़पों में प्रभावित नया नगर सहित सभी इलाकों में अब शांति है और भारी पुलिस बल तैनात है. ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस द्वारा हिंसा में शामिल लोगों की गिरफ़्तारी जारी है.

एसीपी श्रीकांत पाठक ने एफआईआर के संदर्भ में मीडिया को बताया कि अब तक इस मामले में 10 एफआईआर दर्ज की जा चुकी हैं जो हिंसा में शामिल लोगों और सोशल मीडिया पर फेक ख़बर साझा करने वालों पर है.

मीडिया को एसीपी ने बताया कि, 6 एफआईआर 21 जनवरी की रात को हुई घटना के संदर्भ में दर्ज की गई है जबकि 2 एफआईआर 22 जनवरी को सड़कों और दुकानों की तोड़फोड़ को लेकर दर्ज है और अन्य 2 एफआईआर सोशल मीडिया पर फर्ज़ी विडियोज़ और पोस्ट साझा करने के मामले में दर्ज की गई हैं.

ज्ञात हो कि रामलाल प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को लेकर देशभर में राम भक्तों द्वारा जश्न मनाया जा रहा था और शोभा यात्राएं निकाली जा रहीं थी. वहीं मुंबई से लगे मीरा रोड़ के नया नगर इलाके में मुस्लिम बहुल इलाके में कुछ उपद्रवियों द्वारा रैली के दौरान भड़काऊ नारे लगाए गए और माहौल ख़राब करने का प्रयास किया गया.

रैली में शामिल कुछ उपद्रवियों द्वारा कथित रूप से भड़काऊ नारेबाज़ी के बाद माहौल तनावपूर्ण हो गया और दो समुदायों में हिंसक झड़प के मामले सामने आये. इलाके में लगभग तीन दिनों तक तनाव बना रहा. स्थानीय नागरिकों के अनुसार समय-समय पर अलग-अलग जगह पर रैलियां निकाली गई और माहौल सामान्य रहा.

स्थानीय लोगों द्वारा शांति का प्रयास:

हालांकि, 23 और 24 जनवरी को मुस्लिम समुदाय के लोगों की संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने की खबरें भी सामने आई. 25 जनवरी को कुछ स्थानीय पत्रकारों द्वारा दोनों समुदायों के नेताओं, नगर पालिका के आयुक्त सहित पुलिस आयुक्त को आमंत्रित कर शांति स्थापित करने के लिए एक मंच पर लाने का प्रयास हुआ जिसके बाद इलाके में शांति व्यवस्था बनी हुई है.

एक स्थानीय नागरिक बिलाल शाह ने इंडिया टुमारो से बात करते हुए कहा कि, 21 जनवरी की रात हिंसा की शुरुआत हुई तो स्थानीय पुलिस ने उस पर क़ाबू पा लिया. हालांकि, पुलिस ने 22 जनवरी के लिए सुरक्षा के सख़्त इन्तेज़ाम नहीं की.

उन्होंने कहा कि 22 जनवरी के दिन पुलिस कई जगहों पर नाकाम दिखाई दी जिसके परिणाम स्वरूप हिंसा और ज्यादा बढ़ गई और पुलिस भी रोकने में पूर्ण रूप से सक्षम दिखाई नहीं दी.

बिलाल आगे बताया कि नया नगर एक मुस्लिम बहुल इलाका है और उसी से सटा शांति नगर का इलाका है जहां हिंदू समुदाय बहुसंख्यक हैं और हम पिछले कई दशकों से प्रेम व भाईचारे के साथ रह रहे हैं और कभी ऐसी घटना नहीं हुई.

उन्होंने कहा, “ये तो कुछ लोग थे जो बाहर से विशेष रूप से एक साज़िश के तहत बुलवाए गए थे. इसमें कुछ स्थानीय नेताओं की भी भुमिका रही जिन्होंने इस मामले को और हवा देकर अशांति फैलाने की कोशिश की.”

पुलिस पर एकतरफा कार्रवाई का आरोप:

स्थानीय वकील एडवोकेट शहूद अनवर पुलिस की कार्रवाई को एक तरफा बताते हुए कहा कि, इस मामले में अब तक आधिकारिक रूप से 21 गिरफ्तारियां हुई हैं और सभी गिरफ्तारियां मुस्लिम समुदाय के लोगों की हैं.”

एडवोकेट शहूद अनवर ने बताया कि यह गिरफ्तारीयां आईपीसी की धारा 307 (हत्या का प्रयास), 143 (Unlawful Assembly) और हिंसा फैलाने से जुड़ी गंभीर धाराओं के तहत की गई हैं. जबकि जिन लोगों ने माहौल खराब करने और इलाके में मुस्लिम समुदाय के लोगों की संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने का प्रयास किया है उनके खिलाफ अब तक पुलिस ने सिर्फ एक एफआईआर की है.

उन्होंने बताया कि, हिंसा फैलाना वालों पर दर्ज एफआईआर में आईपीसी धारा 324 (खतरनाक हथियारों या साधनों से स्वेच्छा से चोट पहुंचाने की सजा) के तहत मामला दर्ज किया गया है. आईपीसी की धारा 307 और 120 के तहत मामला दर्ज होना चाहिए.

एडवोकेट शहूद ने बताया कि, “हमने कुछ अन्य स्थानीय वकीलों के साथ अनुचित कारवाई को लेकर पुलिस आयुक्त मधूकर पांडे से मुलाकात भी की जिस पर उन्होंने आश्वासन देते हुए कहा कि जो भी दोषी पाया जाएगा उस पर कारवाई होगी.”

बता दें कि पुलिस की ओर से बार-बार सुचित‌ किया जाता रहा कि अफवाहों और सोशल मीडिया के माध्यम से आने वाली फर्ज़ी खबरों को शेयर करने से बचें. कुछ लोग ऐसा करते हुए पाए गए जिनपर पुलिस ने कारवाई भी की है.

मुस्लिम इलाकों के हिन्दू दुकानदारों ने क्षेत्र के मुसलमानों को सहयोगी और शांतिपूर्ण बताया:

एक स्थानीय न्यूज़ चैनल (यूट्यूब) सिटी हैडलाइंस के माध्यम से नया नगर के कुछ सुनारों ने मुस्लिम समुदाय और इस इलाके के संदर्भ कई सकारात्मक बातें कहीं. जिनमें से एक सुनार महावीर ज्वैलर्स के मालिक भावेश जैन ने कहा कि पिछले 10 सालों से नया नगर इलाके में अपनी दुकान चला रहे हैं.

उन्होंने बताया कि उनके अधिकतर ग्राहक मुस्लिम समुदाय से आते हैं लेकिन आज तक उन्हें इस इलाके में कोई परेशानी या सांप्रदायिक तनाव देखने को नहीं मिला. भावेश आगे कहते हैं कि इस इलाके में हम अपने सभी त्यौहार बिल्कुल शांति से मनाते हैं और मुस्लिम समुदाय के लोग भी कई दशकों से अपने त्यौहार मना रहे हैं लेकिन इस तरह की सांप्रदायिक मामले कभी सामने नहीं आये.

उन्होंने कहा कि इससे पहले कभी ऐसा नहीं हुआ. यह कुछ लोग हैं जो बाहर से आते हैं और माहौल ख़राब करने का प्रयास करते हैं. फ़िलहाल इलाक़े में शांति है और हम चाहते हैं की शांति और भाईचारा हमेशा ऐसे ही बना रहे.

नया नगर के एक युवक और सोशल मीडिया इनफ्लुएंसर राहिल शेख़ ने फर्जी खबरों और सोशल मीडिया पर वायरल हो रही फेक वीडियो के संदर्भ में हमें बताया कि उन्होंने इस दौरान कई फर्ज़ी विडियोज़ और पोस्ट‌ सोशल मीडिया पर चिन्हित किया जो वायरल किया जा रहा था जिस पर हमने अपने माध्यम से लोगों को सही ख़बरों के बारे में जागरूक किया.

नया नगर के लोधा रोड़ पर मौजूद बरसों पुराने गणेश मंदिर की देखरेख करने वाले इंद्रजीत सिटी हैडलाइंस से बात करते हुए कहते हैं कि वे पिछले 15 सालों से यहां रह रहे हैं और कई बार आस-पास के कुछ मुस्लिम भी इस मंदिर की सफ़ाई सुथराई में उनकी सहायता करते हैं.

उन्होंने एक मीडिया चैनल से बात करते हुए कहा कि अगर इलाके में कोई सांप्रदायिक तनाव होता या लोगों में साम्प्रदायिक तनाव का माहौल होता तो बह यहां इतने वर्षों से कैसे रह पाते.

स्थानीय विधायक पर भड़काऊ बयान का आरोप

गौरतलब है कि इस पुरे मामले में हिंसा भड़काने का‌ आरोप स्थानीय भाजपा विधायक गीता जैन पर है, दावा किया जा रहा है कि उन्होंने हिंसा को हवा दी और भड़काऊ बयान बाज़ी की.

स्थानीय लोगों द्वारा विधायक पर यह भी आरोप लगाया जा रहा है कि शांति स्थापित होने के बाद भी उन्होंने सोशल मीडिया पर एक भड़काऊ पोस्ट सझा करते हुए कहा कि, “भाईचारे से रहो तो भाईचारा बढ़ाएंगे, हमारे धर्म पर आंच आई तो अपना धर्म निभाएंगे.”

विधायक द्वारा साझा किए गए इस पोस्ट पर अपने बयानों को लेकर विवादों में रहने वाली काजल‌ हिंदुस्तानी ने अपना समर्थन दिखाते हुए नया नगर को जिहादी नगर कहा और आतंकवाद से जोड़ दिया.

ज्ञात हो कि काजल हिंदुस्तानी गुजरात से आती हैं, जिन्हें भड़काऊ भाषण से संबंधित मामले में पहले भी गुजरात पुलिस द्वारा गिरफ्तारी किया जा चुका है. उन्हें पहले भी मीरा भायंदर में जन आक्रोश मोर्चा के तहत आमंत्रित किया गया था.

काजल‌ हिंदुस्तानी ने उस समय भी नया नगर को निशाना बनाते हुए भड़काऊ भाषण दिया था. वे आए दिन भड़काऊ भाषण और सोशल मीडिया पर उकसाने वाली पोस्ट करती रहतीं हैं. आश्चर्य की बात यह है कि X पर उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा फॉलो भी किया जाता है जिसे लेकर कई बुद्द्जीवियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा सवाल उठाया जाता रहा है.

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

यूपी में विधायकों के क्रास वोटिंग से भाजपा 8वीं राज्यसभा सीट जीती, सपा को मिली 2 सीट

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो लखनऊ | उत्तर प्रदेश में 10 सीटों के लिए हुए राज्यसभा चुनाव में विधायकों...
- Advertisement -

पिछले तीन वर्षों में गुजरात में 25,478 लोगों ने की आत्महत्या, इनमें लगभग 500 छात्र: राज्य सरकार

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | भाजपा शासित राज्य गुजरात में तीन वर्षों में 25,000 से अधिक आत्महत्या के मामले...

सुप्रीम कोर्ट ने पतंजलि दवा के विज्ञापनों पर लगाया प्रतिबंध, बाबा रामदेव को अदालत की अवमानना का नोटिस

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को एक अंतरिम आदेश पारित कर पतंजलि आयुर्वेद की दवाओं...

राजस्थान: धर्मांतरण के आरोप में निलंबित मुस्लिम शिक्षकों की बहाली के लिए छात्रों का प्रदर्शन, SDM को दिया ज्ञापन

-रहीम ख़ान जयपुर | राजस्थान के कोटा ज़िले में धर्मांतरण के आरोप में दो मुस्लिम शिक्षकों को निलंबित कर...

Related News

यूपी में विधायकों के क्रास वोटिंग से भाजपा 8वीं राज्यसभा सीट जीती, सपा को मिली 2 सीट

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो लखनऊ | उत्तर प्रदेश में 10 सीटों के लिए हुए राज्यसभा चुनाव में विधायकों...

पिछले तीन वर्षों में गुजरात में 25,478 लोगों ने की आत्महत्या, इनमें लगभग 500 छात्र: राज्य सरकार

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | भाजपा शासित राज्य गुजरात में तीन वर्षों में 25,000 से अधिक आत्महत्या के मामले...

सुप्रीम कोर्ट ने पतंजलि दवा के विज्ञापनों पर लगाया प्रतिबंध, बाबा रामदेव को अदालत की अवमानना का नोटिस

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को एक अंतरिम आदेश पारित कर पतंजलि आयुर्वेद की दवाओं...

राजस्थान: धर्मांतरण के आरोप में निलंबित मुस्लिम शिक्षकों की बहाली के लिए छात्रों का प्रदर्शन, SDM को दिया ज्ञापन

-रहीम ख़ान जयपुर | राजस्थान के कोटा ज़िले में धर्मांतरण के आरोप में दो मुस्लिम शिक्षकों को निलंबित कर...

“फ़िलिस्तीनी आवाम फ़िलिस्तीन की भूमि पर ही जीने और मरने के लिए दृढ़ है”: फ़िलिस्तीनी राजदूत

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | भारत में फिलिस्तीन के राजदूत अदनान अबू अल-हैजा ने इज़राइल पर फिलिस्तीनियों को उनकी...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here