https://www.xxzza1.com
Saturday, March 2, 2024
Home देश ज्ञानवापी मस्जिद के तहखाने में हिंदू पक्ष को पूजा की अनुमति कानून...

ज्ञानवापी मस्जिद के तहखाने में हिंदू पक्ष को पूजा की अनुमति कानून का उल्लंघन : जमाअते इस्लामी हिन्द

इंडिया टुमारो

नई दिल्ली | वाराणसी कोर्ट द्वारा ज्ञानवापी मस्जिद के दक्षिणी तहखाने में हिंदुओं को पूजा करने की अनुमति देने के फैसले को जमाअत-ए-इस्लामी हिंद के अध्यक्ष सैयद सआदतुल्लाह हुसैनी ने चौंकाने वाला और कानून का उल्लंघन बताया है.

मीडिया को जारी एक बयान में सैयद सआदतुल्लाह हुसैनी ने कहा, “ज्ञानवापी मस्जिद के दक्षिणी तहखाने में हिंदुओं को पूजा करने की अनुमति देने के वाराणसी न्यायालय के आदेश से हम स्तब्ध हैं। यह आदेश जारी करके, वाराणसी न्यायालय ने पूजा स्थल अधिनियम 1991 का उल्लंघन किया है.”

उन्होंने कहा कि, “यह मामला अभी भी अदालतों में लंबित है. चूंकि तहखाना मस्जिद का हिस्सा है इसलिए वहां पूजा की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए. अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी द्वारा इस आदेश को ऊपरी अदालतों में चुनौती देने के फैसले का जमाअत-ए-इस्लामी हिंद समर्थन करती है.”

जमाअत अध्यक्ष ने कहा कि, “वाराणसी कोर्ट के अजीब और चौंकाने वाले इस फैसले के बाद का घटनाक्रम परेशान करने वाला है. जिस अनैतिकता से ज्ञानवापी मस्जिद के परिसर और उसकी पवित्रता को भंग किया गया, वह चिंताजनक है. हम इस कार्रवाई की कड़ी निंदा करते हैं और मस्जिद पर नाजायज़ प्रभुत्व हासिल करने की हताशा के इन कृत्यों को पलटना उच्च न्यायालयों की जिम्मेदारी है.”

जमाअत के अध्यक्ष ने कहा, “हम पूजा स्थल अधिनियम 1991 का पालन करने की अपनी मांग को पुनः दोहराते हैं. यह अधिनियम सार्वजनिक इबादतगाहों के धार्मिक स्वरुप के संरक्षण की गारंटी प्रदान करता है, क्योंकि ये स्थल 15 अगस्त, 1947 को अस्तित्व में थे. भारत सरकार को इस अधिनियम के समर्थन में सशक्त रूप से सामने आना चाहिए और घोषणा करनी चाहिए कि वे इसका अक्षरशः पालन करेंगे.”

उन्होंने कहा कि, “हमें विश्वास है कि इबादतगाह अधिनियम 1991 को ध्यान में रखते हुए उच्च न्यायालय द्वारा वाराणसी न्यायालय के आदेशों को पलट दिया जाएगा. यहाँ बाबरी मस्जिद के मालिकाना हक के मुकदमे का फैसला करते समय भारत के सर्वोच्च न्यायालय के शब्दों को याद दिलाना उचित प्रतीत होता है.”

सैयद सआदतुल्लाह हुसैनी ने कहा कि, शीर्ष अदालत ने ” इबादतगाह अधिनियम” का व्यापक रूप से हवाला देते हुए इस अधिनियम को “आंतरिक रूप से एक धर्मनिरपेक्ष राज्य के दायित्वों से संबंधित” बताया. यह सभी धर्मों की समानता के प्रति भारत की प्रतिबद्धता को दर्शाता है.”

उन्होंने कहा कि, “सबसे बढ़कर, इबादतगाह अधिनियम उस गंभीर कर्तव्य की पुष्टि है जो एक आवश्यक संवैधानिक मूल्य के रूप में सभी धर्मों की समानता को संरक्षित करने के लिए राज्य पर डाला गया था, एक ऐसा मानदंड जिसे संविधान की मूल विशेषता होने का दर्जा प्राप्त है… सार्वजनिक इबादतगाहों के चरित्र को संरक्षित करने में, संसद ने स्पष्ट रूप से आदेश दिया है कि इतिहास और उसकी गलतियों का उपयोग वर्तमान और भविष्य पर अत्याचार करने के साधन के रूप में नहीं किया जाएगा.”

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

यूपी में विधायकों के क्रास वोटिंग से भाजपा 8वीं राज्यसभा सीट जीती, सपा को मिली 2 सीट

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो लखनऊ | उत्तर प्रदेश में 10 सीटों के लिए हुए राज्यसभा चुनाव में विधायकों...
- Advertisement -

पिछले तीन वर्षों में गुजरात में 25,478 लोगों ने की आत्महत्या, इनमें लगभग 500 छात्र: राज्य सरकार

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | भाजपा शासित राज्य गुजरात में तीन वर्षों में 25,000 से अधिक आत्महत्या के मामले...

सुप्रीम कोर्ट ने पतंजलि दवा के विज्ञापनों पर लगाया प्रतिबंध, बाबा रामदेव को अदालत की अवमानना का नोटिस

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को एक अंतरिम आदेश पारित कर पतंजलि आयुर्वेद की दवाओं...

राजस्थान: धर्मांतरण के आरोप में निलंबित मुस्लिम शिक्षकों की बहाली के लिए छात्रों का प्रदर्शन, SDM को दिया ज्ञापन

-रहीम ख़ान जयपुर | राजस्थान के कोटा ज़िले में धर्मांतरण के आरोप में दो मुस्लिम शिक्षकों को निलंबित कर...

Related News

यूपी में विधायकों के क्रास वोटिंग से भाजपा 8वीं राज्यसभा सीट जीती, सपा को मिली 2 सीट

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो लखनऊ | उत्तर प्रदेश में 10 सीटों के लिए हुए राज्यसभा चुनाव में विधायकों...

पिछले तीन वर्षों में गुजरात में 25,478 लोगों ने की आत्महत्या, इनमें लगभग 500 छात्र: राज्य सरकार

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | भाजपा शासित राज्य गुजरात में तीन वर्षों में 25,000 से अधिक आत्महत्या के मामले...

सुप्रीम कोर्ट ने पतंजलि दवा के विज्ञापनों पर लगाया प्रतिबंध, बाबा रामदेव को अदालत की अवमानना का नोटिस

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को एक अंतरिम आदेश पारित कर पतंजलि आयुर्वेद की दवाओं...

राजस्थान: धर्मांतरण के आरोप में निलंबित मुस्लिम शिक्षकों की बहाली के लिए छात्रों का प्रदर्शन, SDM को दिया ज्ञापन

-रहीम ख़ान जयपुर | राजस्थान के कोटा ज़िले में धर्मांतरण के आरोप में दो मुस्लिम शिक्षकों को निलंबित कर...

“फ़िलिस्तीनी आवाम फ़िलिस्तीन की भूमि पर ही जीने और मरने के लिए दृढ़ है”: फ़िलिस्तीनी राजदूत

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | भारत में फिलिस्तीन के राजदूत अदनान अबू अल-हैजा ने इज़राइल पर फिलिस्तीनियों को उनकी...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here