https://www.xxzza1.com
Sunday, March 3, 2024
Home अन्तर्राष्ट्रीय ईरान कृषि, नैनो-तकनीक, शांतिपूर्ण परमाणु ऊर्जा में आत्मनिर्भर: डॉ. इराज इलाही- ईरानी...

ईरान कृषि, नैनो-तकनीक, शांतिपूर्ण परमाणु ऊर्जा में आत्मनिर्भर: डॉ. इराज इलाही- ईरानी राजदूत

-सैयद ख़लीक अहमद

नई दिल्ली | ईरान के बारे में प्रचलित दुष्प्रचार को खारिज करते हुए इस्लामी गणराज्य ईरान के राजदूत महामहिम डॉ. इराज इलाही ने शुक्रवार की शाम एक कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि, ईरान ने इस्लामिक रिवोल्यूशन के पिछले चार दशकों के दौरान “कृषि, औद्योगिक उत्पादों, नैनो-तकनीक और शांतिपूर्ण परमाणु ऊर्जा में आत्मनिर्भरता” हासिल किया है.

ईरानी राजदूत ने इमाम ख़ुमैनी के नेतृत्व में ईरान की इस्लामिक रिवोल्यूशन की 44वीं वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित एक समारोह में यह जानकारी दी. समारोह का आयोजन यहां ईरानी दूतावास, दिल्ली में किया गया था.

उन्होंने बताया कि, पिछले 44 वर्षों में एक राष्ट्र के रुप में ईरान के लिए रास्ता बहुत आसान नहीं रहा है, “ईरानी लोग और सरकार कई तरह की साज़िशों और समस्याओं से गुज़रे हैं, जिनमें ज़बरदस्ती थोपे गए युद्ध, आतंक, आर्थिक प्रतिबंध या आर्थिक आतंकवाद और हाल ही में “हाइब्रिड युद्ध” (दुष्प्रचार अभियान सहित सैन्य और गैर-सैन्य कार्रवाइयों का संयोजन) जैसी साज़िशे भी शामिल हैं.

उन्होंने कहा, “लेकिन राष्ट्रीय एकता और कुशल नेतृत्व की मदद से, ईरान अलग-अलग क्षेत्रों में असाधारण रूप से उभरने में कामयाब हुआ है, जिनमें से सबसे अहम क्षेत्र कृषि उत्पादों, औद्योगिक उत्पादों, नैनो-तकनीक और शांतिपूर्ण परमाणु ऊर्जा की आत्मनिर्भरता है.” डॉ. इलाही ने जिन मेहमानों को संबोधित किया उनमें नई दिल्ली में स्थित कई देशों के राजदूत और प्रतिनिधि शामिल थे. भारत के बंदरगाह, नौवहन और जलमार्ग मंत्री सर्बानंद सोनोवाल भी मेहमानों में शामिल थे.

ईरान की वैज्ञानिक उपलब्धियां और महिलाओं का सशक्तिकरण

ईरानी राजदूत ने ईरान में साक्षरता दर 95 प्रतिशत बताते हुए कहा कि वैज्ञानिक उपलब्धियों के मामले में ईरान दुनिया के 200 देशों में 16वें स्थान पर है.

गैर-मुस्लिम दुनिया, विशेष रूप से यूरोप में इस्लामोफोबिक लोगों द्वारा फैलाई गई यह गलत धारणा कि, “इस्लाम मुस्लिम महिलाओं के शिक्षा हासिल करने के रास्ते में बाधा है”, डॉ. इलाही ने इसे खारिज करते हुए कहा कि, “वर्तमान में ईरान में कुल छात्रों में से महिला छात्रों की संख्या 55 प्रतिशत है. इसके अलावा, डॉ. इलाही के अनुसार, ईरानी विश्वविद्यालयों में कम से कम 40 प्रतिशत डॉक्टर और 33 प्रतिशत प्रोफेसर महिलाएं हैं.”

उन्होंने ईरानी महिलाओं के सशक्तिकरण का श्रेय इस्लामिक रिवोल्यूशन को दिया.

ईरान की इस्लामिक रिवोल्यूशन की व्याख्या करते हुए उन्होंने कहा कि यह ईरानी लोगों के समर्थन और इमाम खुमैनी के नेतृत्व में लाई गई क्रांति थी.

डॉ. इलाही ने ईरान की इस्लामिक रिवॉल्यूशन की विशेषताओं के बारे में विस्तार से बताया. उन्होंने कहा, “क्रांति विदेशियों पर निर्भर शाह शासन को खत्म करने में सफल रही और इसके ज़रिए धार्मिक (इस्लामिक) लोकतंत्र पर आधारित एक प्रणाली की स्थापना की गई, जो लोगों को डेमोक्रेटिक सिस्टम के ज़रिए अपने राजनीतिक-सामाजिक भाग्य को तय करने की अनुमति देती है.”

ईरान की विदेश नीति

अपने देश की विदेश नीति के बारे में बोलते हुए डॉ. इलाही ने कहा कि यह “इस्लामिक रिवॉल्यूशन के सिद्धांतों और मूल्यों” पर आधारित है.

राजदूत ने इस पर विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि, “अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ईरान शांति और न्याय, तर्कसंगत, स्वतंत्रता का समर्थक है और भेदभाव, आक्रामकता और विदेशी हस्तक्षेप को खारिज करता है.”

डॉ. इलाही ने अपने कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को बताया कि, “इसीलिए, इस्लामी गणतंत्र ईरान हमेशा से ही फ़िलिस्तीन के लोगों सहित दुनिया के उत्पीड़ित राष्ट्रों के साथ रहा है.”

पश्चिम एशिया की स्थिरता और सुरक्षा में ईरान की भूमिका

यह कहते हुए कि, “ईरान ने पश्चिम एशिया और दुनिया की स्थिरता और सुरक्षा सुनिश्चित करने में एक अनूठी भूमिका निभाई है”, उन्होंने कहा कि उनके देश ने “आतंकवाद, उग्रवाद और मादक पदार्थों की तस्करी जैसी भयावह घटनाओं के खिलाफ लड़ाई में सबसे आगे रहते हुए बहादुरी के साथ एक भारी आध्यात्मिक और भौतिक कीमत चुकाई है.”

यह कहते हुए कि ईरान अपने पड़ोसी देशों के साथ संबंध मजबूत कर रहा है, राजदूत ईराज इलाही ने कहा कि, “निस्संदेह, ईरान के इस्लामी गणराज्य के लिए भारत की खास अहमियत है.”

उन्होंने कहा कि, 2022 में समरकंद में दोनों देशों के उच्च पदस्थ अधिकारियों की नियमित यात्राओं के अलावा ईरानी राष्ट्रपति इब्राहिम रायसी और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हालिया बैठक इसका प्रमाण है.

ईरान और भारत के बीच व्यापारिक संबंध

यह कहते हुए कि, “बाहरी दबावों ने हाल के वर्षों में दोनों देशों के बीच व्यापार में कई समस्याएं पैदा की हैं”, उन्होंने आगे कहा कि, “भारत की कूटनीतिक स्वायत्तता अभी भी इस सहयोग को जारी रखने के लिए सबसे बड़ा समर्थन है.”

ईरानी राजदूत ने भारत द्वारा विकसित चाबहार बंदरगाह का भी ज़िक्र किया. उन्होंने कहा कि, चाबहार बंदरगाह हिंद महासागरीय देशों को मध्य एशिया और काकेशस से जोड़ने वाला प्रवेश द्वार है.

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

यूपी में विधायकों के क्रास वोटिंग से भाजपा 8वीं राज्यसभा सीट जीती, सपा को मिली 2 सीट

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो लखनऊ | उत्तर प्रदेश में 10 सीटों के लिए हुए राज्यसभा चुनाव में विधायकों...
- Advertisement -

पिछले तीन वर्षों में गुजरात में 25,478 लोगों ने की आत्महत्या, इनमें लगभग 500 छात्र: राज्य सरकार

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | भाजपा शासित राज्य गुजरात में तीन वर्षों में 25,000 से अधिक आत्महत्या के मामले...

सुप्रीम कोर्ट ने पतंजलि दवा के विज्ञापनों पर लगाया प्रतिबंध, बाबा रामदेव को अदालत की अवमानना का नोटिस

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को एक अंतरिम आदेश पारित कर पतंजलि आयुर्वेद की दवाओं...

राजस्थान: धर्मांतरण के आरोप में निलंबित मुस्लिम शिक्षकों की बहाली के लिए छात्रों का प्रदर्शन, SDM को दिया ज्ञापन

-रहीम ख़ान जयपुर | राजस्थान के कोटा ज़िले में धर्मांतरण के आरोप में दो मुस्लिम शिक्षकों को निलंबित कर...

Related News

यूपी में विधायकों के क्रास वोटिंग से भाजपा 8वीं राज्यसभा सीट जीती, सपा को मिली 2 सीट

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो लखनऊ | उत्तर प्रदेश में 10 सीटों के लिए हुए राज्यसभा चुनाव में विधायकों...

पिछले तीन वर्षों में गुजरात में 25,478 लोगों ने की आत्महत्या, इनमें लगभग 500 छात्र: राज्य सरकार

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | भाजपा शासित राज्य गुजरात में तीन वर्षों में 25,000 से अधिक आत्महत्या के मामले...

सुप्रीम कोर्ट ने पतंजलि दवा के विज्ञापनों पर लगाया प्रतिबंध, बाबा रामदेव को अदालत की अवमानना का नोटिस

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को एक अंतरिम आदेश पारित कर पतंजलि आयुर्वेद की दवाओं...

राजस्थान: धर्मांतरण के आरोप में निलंबित मुस्लिम शिक्षकों की बहाली के लिए छात्रों का प्रदर्शन, SDM को दिया ज्ञापन

-रहीम ख़ान जयपुर | राजस्थान के कोटा ज़िले में धर्मांतरण के आरोप में दो मुस्लिम शिक्षकों को निलंबित कर...

“फ़िलिस्तीनी आवाम फ़िलिस्तीन की भूमि पर ही जीने और मरने के लिए दृढ़ है”: फ़िलिस्तीनी राजदूत

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | भारत में फिलिस्तीन के राजदूत अदनान अबू अल-हैजा ने इज़राइल पर फिलिस्तीनियों को उनकी...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here