https://www.xxzza1.com
Saturday, April 13, 2024
Home अन्तर्राष्ट्रीय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में पारित हुआ गज़ा में तुरंत युद्धविराम...

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में पारित हुआ गज़ा में तुरंत युद्धविराम का प्रस्ताव

इंडिया टुमारो

नई दिल्ली | गज़ा में युद्धविराम को लेकर सोमवार को यूनाइटेड नेशन सिक्योरिटी काउंसिल (UNSC) में प्रस्ताव पारित हो गया है. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सोमवार को गज़ा में तत्काल बिना शर्त युद्धविराम का आह्वान किया, ताकि वहां हो रही भारी जनहानि को रोका जा सके.

गौरतलब हो कि हमास द्वारा 7 अक्टूबर को इज़रायल पर हमले के बाद इज़राइल ने गज़ा में हवाई हमला शुरू कर दिया था जिसमें 5 महीनों तक चले युद्ध में अब तक लगभग 32,000 लोग मारे गए हैं, जिनमें हज़ारों की संख्या में महिलाएं और बच्चे शामिल हैं. इज़रायली हमलों में गज़ा में अब तक 13,000 बच्चे मारे गए हैं.

प्रस्ताव में यह भी मांग की गई कि हमास 7 अक्टूबर को इज़रायल पर हमले के दौरान बंधक बनाए गए बंधकों को रिहा करे. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में 15 में से 14 सदस्यों ने प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया, जबकि अमेरिका ने वोटिंग ने से दूरी बनाई.

सुरक्षा परिषद ने युद्धविराम का आह्वान करते हुए गज़ा के लोगों के लिए मानवीय सहायता बढ़ाने के लिए कहा. संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों ने गज़ा में अकाल की हालत बनने की चेतावनी दी है, जहां खाद्य आपूर्ति सीमित कर दी गई थी.

प्रस्ताव में इस्लामी पवित्र महीने रमज़ान को ध्यान रखते हुए तत्काल युद्धविराम की मांग की गई थी. प्रस्ताव में बिना शर्त सभी बंधकों की तत्काल रिहाई का आह्वान किया गया.

UN सेक्रेटरी जनरल एंटोनियो गुटेरेस ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर लिखा कि, “UNSC ने गाजा में एक लंबे समय से पड़े प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. इसमें तत्काल युद्धविराम और सभी बंधकों की तत्काल और बिना शर्त रिहाई की मांग की गई थी. उन्होंने कहा कि इस प्रस्ताव को जल्द लागू किया जाना चाहिए.”

अमेरिका ने पहले युद्धविराम की मांग करने वाले तीन प्रस्तावों पर वीटो कर दिया था. इजरायल ने यह कहते हुए उन प्रस्तावों का विरोध किया था कि इससे हमास को ख़त्म करने के उसके प्रयासों में बाधा आएगी.

अमेरिकी स्थायी प्रतिनिधि लिंडा थॉमस-ग्रीनफील्ड ने कहा कि प्रस्ताव पर वोटिंग के दौरान अमेरिका अनुपस्थित रहा, क्योंकि प्रस्ताव में हमास की निंदा नहीं की गई थी.

उन्होंने कहा, “पहले बंधक की रिहाई के साथ ही युद्धविराम तुरंत शुरू हो सकता है और इसलिए हमें हमास पर ऐसा करने के लिए दबाव डालना चाहिए.”

संयुक्त राष्ट्र में फलस्तीन के प्रतिनिधि रियाद मंसूर ने प्रस्ताव का स्वागत किया लेकिन कहा कि यह काफी समय से लंबित था.

मंसूर ने कहा, “इस परिषद को तत्काल संघर्ष विराम की मांग करने में छह महीने लग गए जबकि अब तक 100,000 से अधिक फिलिस्तीनी या तो मारे गए या अपंग हो गए, 20 लाख विस्थापित हुए और अकाल का सामना कर रहे हैं.”

हमास, फिलिस्तीनी इस्लामी समूह जो गज़ा को नियंत्रित करता है और जिसने 7 अक्टूबर को इजरायल पर अभूतपूर्व हमला किया था, ने भी प्रस्ताव का स्वागत किया है.

हमास ने कहा कि वह “तत्काल बंधकों की अदला बदली प्रक्रिया में शामिल होने के लिए तैयार है जो दोनों पक्षों के कैदियों की रिहाई का रास्ता खोलती है.”

हमास ने इस शर्त पर किसी भी बंधक की रिहाई सुनिश्चित करने को कहा है जब इज़रायल की जेलों में बंद फिलिस्तीनियों की रिहाई की जाएगी.

गज़ा में आम नागरिकों, बच्चों और महिलाओं की भारी संख्या में हुई मौत ने डेमोक्रेटिक पार्टी सहित अमेरिकी जनता की राय को इज़रायल के खिलाफ कर दिया है. अमेरिका सहित दुनियाभर में गज़ा में इज़रायली हमले और उसके द्वारा किए जा रहे अमानवीय कृत्य और युद्धअपराध का कड़ा विरोध हो रहा है.

UN सेक्रेटरी जनरल एंटोनियो गुटेरेस ने कहा है कि, “गज़ा में लड़ाई अब खत्म होनी चाहिए. बंधकों को अब रिहा किया जाना चाहिए, और हमें बड़ी तस्वीर खीचनी चाहिए. इजरायल-फिलिस्तीनी संघर्ष का स्थायी अंत केवल दो-देश के रूप में ही संभव हो सकता है.

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

सुप्रीम कोर्ट ने यूपी मदरसा एक्ट रद्द करने वाले इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाई

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा बोर्ड अधिनियम, 2004 को असंवैधानिक घोषित करने के इलाहाबाद उच्च...
- Advertisement -

मदरसा बोर्ड पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वागतयोग्य, हाईकोर्ट का फैसला राजनीति से प्रेरित था: यूपी अल्पसंख्यक कांग्रेस

इंडिया टुमारो लखनऊ | सुप्रीम कोर्ट द्वारा इलाहाबाद हाई कोर्ट के मदरसा शिक्षा अधिनियम 2004 को असंवैधानिक घोषित करने...

2014 के बाद से भ्रष्टाचार के मामलों में जांच का सामना कर रहे 25 विपक्षी नेता भाजपा में शामिल

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर काफी समय से ये आरोप लगते रहे हैं...

गज़ा में पिछले 24 घंटों में 54 फिलिस्तीनियों की मौत, अब तक 33,091 की मौत : स्वास्थ्य मंत्रालय

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | गज़ा में पिछले 24 घंटों में इज़रायली हमलों के दौरान कम से कम 54...

Related News

सुप्रीम कोर्ट ने यूपी मदरसा एक्ट रद्द करने वाले इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाई

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा बोर्ड अधिनियम, 2004 को असंवैधानिक घोषित करने के इलाहाबाद उच्च...

मदरसा बोर्ड पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वागतयोग्य, हाईकोर्ट का फैसला राजनीति से प्रेरित था: यूपी अल्पसंख्यक कांग्रेस

इंडिया टुमारो लखनऊ | सुप्रीम कोर्ट द्वारा इलाहाबाद हाई कोर्ट के मदरसा शिक्षा अधिनियम 2004 को असंवैधानिक घोषित करने...

2014 के बाद से भ्रष्टाचार के मामलों में जांच का सामना कर रहे 25 विपक्षी नेता भाजपा में शामिल

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर काफी समय से ये आरोप लगते रहे हैं...

गज़ा में पिछले 24 घंटों में 54 फिलिस्तीनियों की मौत, अब तक 33,091 की मौत : स्वास्थ्य मंत्रालय

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | गज़ा में पिछले 24 घंटों में इज़रायली हमलों के दौरान कम से कम 54...

IIT मुंबई के 36 प्रतिशत छात्रों को नहीं मिला प्लेसमेंट, राहुल गांधी ने BJP को बताया ज़िम्मेदार

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने एक रिपोर्ट को साझा करते हुए केंद्र सरकार और...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here