Saturday, August 13, 2022
Home अन्तर्राष्ट्रीय रिपोर्टिंग के लिए श्रीलंका जा रहे कश्मीरी पत्रकार आकाश हसन को दिल्ली...

रिपोर्टिंग के लिए श्रीलंका जा रहे कश्मीरी पत्रकार आकाश हसन को दिल्ली एयरपोर्ट पर रोका गया

ख़ान इक़बाल | इंडिया टुमारो

नई दिल्ली | कश्मीरी पत्रकार आकाश हसन ने मंगलवार को ट्विट कर यह आरोप लगाया है कि उन्हें इंदिरा गांधी अन्तर्राष्ट्रीय हवाई-अड्डे दिल्ली पर इमिग्रेशन अधिकारियों द्वारा रोका गया है. हसन श्रीलंका में आर्थिक संकट को कवर करने कोलंबो जा रहे थे.

आकाश एक स्वतंत्र पत्रकार हैं और द गार्जियन एवं अल-जज़ीरा जैसे अंतरराष्ट्रीय मीडिया संस्थानों के लिए रिपोर्टिंग करते हैं.

मंगलवार को उन्होंने ट्विट करते हुए यह आरोप लगाया कि उन्हें दिल्ली एयरपोर्ट पर इमीग्रेशन अधिकारियों द्वारा श्रीलंका जाने से रोकने का कोई कारण भी नहीं बताया गया.

आकाश हसन ने इस बारे में ट्विटर के ज़रिए जानकारी देते हुए लिखा कि, “IGI हवाईअड्डे नई दिल्ली पर इमीग्रेशन अधिकारियों ने मुझे कोलंबो, श्रीलंका के लिए एक उड़ान में सवार होने से रोक दिया. मैं देश में मौजूदा संकटों पर रिपोर्ट करने के लिए जा रहा था. इमिग्रेशन अधिकारियों ने मेरा पासपोर्ट, बोर्डिंग पास ले लिया और मुझे चार घंटे तक एक कमरे में बैठाये रखा.”

उन्होंने ट्विट में आगे लिखा कि, “अधिकारी मुझे कोई कारण नहीं बता रहे हैं कि मुझे अनुमति क्यों नहीं दी जा रही है. मैं जिस एयरलाइन में यात्रा कर रहा था, उसके एक कर्मचारी ने मुझे बताया कि अधिकारियों ने उन्हें विमान से मेरा सामान उतारने का निर्देश दिए हैं.”

आकाश हसन ने बताया कि, “दो अधिकारियों ने मुझसे मेरे बैकग्राउंड, यात्रा के उद्देश्य के बारे में पूछताछ भी की. मुझे पांच घंटे तक इंतजार कराया गया, पीने के लिए पानी भी नहीं दिया. मुझे मेरा पासपोर्ट और बोर्डिंग पास एक “Red Rejection Stamp” के साथ वापस सौंप दिया गया.”

यह पहली घटना नहीं है कि पत्रकारों को विदेश यात्रा करने से रोका गया हो, कुछ महीने पहले कश्मीर की एक फ़ोटो जर्नलिस्ट सना इरशाद मट्टो को दिल्ली एयरपोर्ट पर पेरिस जाने से रोक दिया गया था. सना ने इसी साल फोटोग्राफ़ी के लिए विश्व प्रसिद्ध पुलित्जर अवार्ड भी जीता है.

सना ने भी यही आरोप लगाया था कि इमीग्रेशन अधिकारियों ने उन्हें बिना कारण बताए पेरिस की यात्रा करने से रोक दिया था जबकि उनके पास फ्रैंच वीज़ा मौजूद था, सना वहाँ एक फ़ोटो प्रदर्शनी में हिस्सा लेने जा रही थीं.

आकाश हसन को कोलंबो जाने से रोके जाने पर लोगों ने सवाल उठाया है और नाराज़गी जताई है.

हसन को यात्रा से रोके जाने पर ‘द वायर’ के संस्थापक संपादक सिद्धार्थ वर्धराजन ने ट्वीट करते हुए लिखा, “एक और कश्मीरी पत्रकार- यह चौथ हैं जिन्हें मैं जानता हूं- इनको भारत से बाहर जाने से रोक दिया गया. आकाश हसन रिपोर्ट करने कोलंबो जा रहे थे, बिना किसी कारण के उन्हें विमान से उतार दिया गया. मोदी सरकार में कोई शर्म नहीं बची.”

कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया (माले) की नेता कविता कृष्णन ने ट्वीट करते हुए लिखा, “तो कश्मीर अभी भी एक जेल है, फिर? कश्मीरी पत्रकारों के भारत से बाहर जाने पर रोकना? पहले सना इरशाद मट्टो को एक प्रदर्शनी के लिए पेरिस जाने की अनुमति नहीं दी गई और अब आकाश हसन को वहां की स्थिति को कवर करने के लिए श्रीलंका जाने से रोक दिया गया है.”

PDP की अध्यक्ष और जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है कि पत्रकारों की भूमिका पर CJI की टिप्पणी के तुरंत बाद आकाश हसन को विदेश यात्रा करने से रोक दिया गया.

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने ट्विट किया, “लोकतंत्र में पत्रकारों की भूमिका पर CJI की टिप्पणी के तुरंत बाद आकाश हसन को विदेश यात्रा करने से रोक दिया गया. यह कोई रहस्य नहीं है कि भारत सरकार हमारे लोकतंत्र की रीढ़ और चौथे स्तंभ को कुचलना चाहती है, क्योंकि सच्चाई इन्हें पसंद नहीं.”

ज्ञात हो कि भारत में पत्रकारों पर बढ़ते सरकारी प्रतिबंध को लेकर कई अन्तर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संस्थाओं ने सवाल उठाया है और भारत सरकार को कटघरे में खड़ा किया है. हालांकि, भारत सरकार ने अपने आधिकारिक बयान में देश में सभी आरोपों का खंडन किया है.

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

भीमा-कोरेगांव मामला: 82 वर्षीय वरवर राव को मिली ज़मानत, 13 अन्य अभी भी सलाखों के पीछे

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिमी महाराष्ट्र के भीमा-कोरेगांव में जातिगत हिंसा की साजिश रचने...
- Advertisement -

पीएम मोदी को लिखे गए ‘ओपेन लेटर’ में मौलाना मौदूदी को क्यों बनाया गया निशाना?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | क्या विभाजन के बाद से अब तक किसी भारतीय मुस्लिम नेता ने 2047...

नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ, तेजस्वी बने डिप्टी सीएम

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | बिहार में जनता दल-यूनाइटेड और भाजपा गठबंधन टूटने के बाद बुधवार को नीतीश कुमार...

भीमा कोरेगांव मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मेडिकल आधार पर वरवर राव को दी ज़मानत

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को भीमा कोरेगांव के मामले में आरोपी 84 वर्षीय पी...

Related News

भीमा-कोरेगांव मामला: 82 वर्षीय वरवर राव को मिली ज़मानत, 13 अन्य अभी भी सलाखों के पीछे

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिमी महाराष्ट्र के भीमा-कोरेगांव में जातिगत हिंसा की साजिश रचने...

पीएम मोदी को लिखे गए ‘ओपेन लेटर’ में मौलाना मौदूदी को क्यों बनाया गया निशाना?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | क्या विभाजन के बाद से अब तक किसी भारतीय मुस्लिम नेता ने 2047...

नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ, तेजस्वी बने डिप्टी सीएम

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | बिहार में जनता दल-यूनाइटेड और भाजपा गठबंधन टूटने के बाद बुधवार को नीतीश कुमार...

भीमा कोरेगांव मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मेडिकल आधार पर वरवर राव को दी ज़मानत

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को भीमा कोरेगांव के मामले में आरोपी 84 वर्षीय पी...

बिहार में भाजपा-जदयू गठबंधन टूटा, राजद से गठजोड़, महागठबंधन के साथ बनेगी नई सरकार

ख़ान इक़बाल | इंडिया टुमारो नई दिल्ली | बिहार में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और जनता दल यूनाईटेड (जदयू)...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here