Saturday, August 13, 2022
Home देश पत्रकार मोहम्मद ज़ुबैर ने यूपी पुलिस की FIR रद्द करने की मांग...

पत्रकार मोहम्मद ज़ुबैर ने यूपी पुलिस की FIR रद्द करने की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया

इंडिया टुमारो

नई दिल्ली | ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद ज़ुबैर ने धार्मिक भावनाओं को आहत करने के एक मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा सीतापुर में उनके खिलाफ दर्ज FIR को रद्द करने की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है.

वरिष्ठ अधिवक्ता कॉलिन गोंजाल्विस ने इस मामले का उल्लेख न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी और न्यायमूर्ति जेके माहेश्वरी की अवकाश पीठ के समक्ष किया.

गोंजाल्विस ने कहा, “उनका काम खबरों की जांच करना है. उनके खिलाफ जान से मारने की धमकी दी जाती है और अभद्र भाषा बोलने वाले कहते हैं कि वे उन्हें मार सकते हैं.”

बार & बेंच के अनुसार, गोंजाल्विस ने कहा कि प्राथमिकी को देखने से पता चलता है कि कोई अपराध नहीं है और उसके मुवक्किल को जान से मारने की धमकी दी जा रही है. उन्होंने कहा कि वे इलाहाबाद हाईकोर्ट गए, लेकिन कोई राहत नहीं दी गई.

उन्होंने कहा “कृपया इस मामले को आज दोपहर 2 बजे सूचीबद्ध करें। उन्होंने इलाहाबाद एचसी से भी संपर्क किया.”

पीठ ने कहा कि केवल भारत के मुख्य न्यायाधीश ही मामलों को सूचीबद्ध कर सकते हैं। इसलिए, इसने निर्देश दिया कि सीजेआई द्वारा मंजूरी के अधीन मामले को कल सूचीबद्ध किया जाए.

पीठ ने निर्देश दिया, “भारत के मुख्य न्यायाधीश द्वारा मंजूरी के अधीन मामले को कल सूचीबद्ध करें.”

उत्तर प्रदेश पुलिस ने महंत बजरंग मुनि, यति नरसिंहानंद और स्वामी आनंद स्वरूप के खिलाफ किए गए एक ट्वीट के आधार पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में जुबैर के खिलाफ मामला दर्ज किया था.

ज़ुबैर ने इस मामले को रद्द करने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था.

दिल्ली पुलिस द्वारा दर्ज एक मामले में जुबैर पहले से ही न्यायिक हिरासत में हैं. उन पर धार्मिक समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने के लिए मामला दर्ज किया है. यह मामला 2018 में उनके द्वारा किए गए एक ट्वीट पर आधारित था जो ट्वीट 1980 के दशक की एक फिल्म – किसी से ना कहना का स्क्रीनशॉट था.

हनुमान भक्त नाम के एक ट्विटर हैंडल की शिकायत पर जुबैर के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था जिसमें आरोप लगाया गया था कि जुबैर ने एक हिंदू भगवान का जानबूझकर अपमान करने के इरादे से एक संदिग्ध तस्वीर ट्वीट की थी.

सोमवार को, ज़ुबैर को उत्तर प्रदेश के सीतापुर की एक अदालत में एक ट्वीट पर दर्ज एक मामले में पेश किया गया था, जिसमें कथित तौर पर यति नरसिंहानंद और दो अन्य धर्मगुरुओं को घृणा फैलाने वाले के रूप में संदर्भित किया गया था.

तीन जून को ज़ुबैर के खिलाफ खैराबाद थाने में हिंदू लायन आर्मी के जिलाध्यक्ष भगवान शरण की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया था.

जुबैर को दिल्ली पुलिस ने 27 जून को गिरफ्तार किया था और ड्यूटी मजिस्ट्रेट ने उसे एक दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया था.

फिर उसे 28 जून को सीएमएम के समक्ष पेश किया गया और उसे 4 दिनों के लिए और पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

उन पर शुरू में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 153 ए (धार्मिक समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना) और 295 (किसी भी वर्ग के धर्म का अपमान करने के इरादे से पूजा स्थल को नुकसान पहुंचाना या अपवित्र करना) के तहत मामला दर्ज किया गया.

ज्ञात हो कि दिल्ली हाईकोर्ट ने इससे पहले कथित आपत्तिजनक ट्वीट के सिलसिले में पटियाला हाउस कोर्ट के आदेश को चुनौती देने वाली ज़ुबैर की याचिका पर दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी किया था.

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

भीमा-कोरेगांव मामला: 82 वर्षीय वरवर राव को मिली ज़मानत, 13 अन्य अभी भी सलाखों के पीछे

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिमी महाराष्ट्र के भीमा-कोरेगांव में जातिगत हिंसा की साजिश रचने...
- Advertisement -

पीएम मोदी को लिखे गए ‘ओपेन लेटर’ में मौलाना मौदूदी को क्यों बनाया गया निशाना?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | क्या विभाजन के बाद से अब तक किसी भारतीय मुस्लिम नेता ने 2047...

नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ, तेजस्वी बने डिप्टी सीएम

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | बिहार में जनता दल-यूनाइटेड और भाजपा गठबंधन टूटने के बाद बुधवार को नीतीश कुमार...

भीमा कोरेगांव मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मेडिकल आधार पर वरवर राव को दी ज़मानत

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को भीमा कोरेगांव के मामले में आरोपी 84 वर्षीय पी...

Related News

भीमा-कोरेगांव मामला: 82 वर्षीय वरवर राव को मिली ज़मानत, 13 अन्य अभी भी सलाखों के पीछे

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिमी महाराष्ट्र के भीमा-कोरेगांव में जातिगत हिंसा की साजिश रचने...

पीएम मोदी को लिखे गए ‘ओपेन लेटर’ में मौलाना मौदूदी को क्यों बनाया गया निशाना?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | क्या विभाजन के बाद से अब तक किसी भारतीय मुस्लिम नेता ने 2047...

नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ, तेजस्वी बने डिप्टी सीएम

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | बिहार में जनता दल-यूनाइटेड और भाजपा गठबंधन टूटने के बाद बुधवार को नीतीश कुमार...

भीमा कोरेगांव मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मेडिकल आधार पर वरवर राव को दी ज़मानत

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को भीमा कोरेगांव के मामले में आरोपी 84 वर्षीय पी...

बिहार में भाजपा-जदयू गठबंधन टूटा, राजद से गठजोड़, महागठबंधन के साथ बनेगी नई सरकार

ख़ान इक़बाल | इंडिया टुमारो नई दिल्ली | बिहार में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और जनता दल यूनाईटेड (जदयू)...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here