Saturday, August 13, 2022
Home देश ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद ज़ुबैर पुलिस रिमांड को चुनौती देते हुए...

ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद ज़ुबैर पुलिस रिमांड को चुनौती देते हुए दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचे

इंडिया टुमारो

नई दिल्ली | ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद ज़ुबैर ने गुरुवार को पुलिस रिमांड को चुनौती देते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय का रुख किया है. ज़ुबैर, 2018 के एक ट्वीट के मामले में पुलिस हिरासत में हैं.

पत्रकार मोहम्मद ज़ुबैर ने पुलिस हिरासत में भेजने के पटियाला हाउस अदालत के आदेश को चुनौती देते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय का रुख किया है.

बार & बेंच की रिपोर्ट के अनुसार, अधिवक्ता वृंदा ग्रोवर ने गुरुवार सुबह अवकाश न्यायाधीश न्यायमूर्ति संजीव नरूला के समक्ष याचिका का उल्लेख किया और न्यायाधीश कल मामले की सुनवाई के लिए तैयार हो गए.

ज़ुबैर को 28 जून को पटियाला हाउस कोर्ट ने चार दिन की पॉलिसी रिमांड पर भेज दिया था.

उन्हें दिल्ली पुलिस ने 27 जून को गिरफ्तार किया था और ड्यूटी मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया था, जिसने पुलिस को ज़ुबैर की एक दिन की हिरासत प्रदान की थी. उन्हें मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट स्निग्धा सरवरिया ने चार दिनों के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया.

ज़ुबैर की गिरफ्तारी पर देश और दुनियाभर के पत्रकारों ने और पत्रकारिता संस्थानों ने नाराज़गी जताई है और ज़ुबैर की रिहाई की मांग की है.

एडिटर्स गिल्ड ऑफ़ इंडिया और प्रेस क्लब ऑफ़ इंडिया व कई अन्य प्रतिष्टित संस्थाओं ने मोहम्मद ज़ुबैर की गिरफ़्तारी पर बयान जारी कर आधिकारिक रूप से विरोध जताया है.

पुलिस ने ज़ुबैर पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 153 ए (धार्मिक समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना) और 295 (किसी भी वर्ग के धर्म का अपमान करने के इरादे से पूजा स्थल को नुकसान पहुंचाना या अपवित्र करना) के तहत आरोप लगाया है.

ज़ुबैर के खिलाफ मामला हनुमान भक्त नाम के एक ट्विटर हैंडल की शिकायत पर आधारित है जिसमें आरोप लगाया गया है कि जुबैर ने एक विशेष धर्म के भगवान का जानबूझकर अपमान करने के इरादे से एक संदिग्ध तस्वीर ट्वीट की थी.

हालांकि, उस ट्विटर अकाउंट की प्रमाणिकता को लेकर कई तरह के सवाल उठाए जा रहे हैं.

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

भीमा-कोरेगांव मामला: 82 वर्षीय वरवर राव को मिली ज़मानत, 13 अन्य अभी भी सलाखों के पीछे

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिमी महाराष्ट्र के भीमा-कोरेगांव में जातिगत हिंसा की साजिश रचने...
- Advertisement -

पीएम मोदी को लिखे गए ‘ओपेन लेटर’ में मौलाना मौदूदी को क्यों बनाया गया निशाना?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | क्या विभाजन के बाद से अब तक किसी भारतीय मुस्लिम नेता ने 2047...

नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ, तेजस्वी बने डिप्टी सीएम

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | बिहार में जनता दल-यूनाइटेड और भाजपा गठबंधन टूटने के बाद बुधवार को नीतीश कुमार...

भीमा कोरेगांव मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मेडिकल आधार पर वरवर राव को दी ज़मानत

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को भीमा कोरेगांव के मामले में आरोपी 84 वर्षीय पी...

Related News

भीमा-कोरेगांव मामला: 82 वर्षीय वरवर राव को मिली ज़मानत, 13 अन्य अभी भी सलाखों के पीछे

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिमी महाराष्ट्र के भीमा-कोरेगांव में जातिगत हिंसा की साजिश रचने...

पीएम मोदी को लिखे गए ‘ओपेन लेटर’ में मौलाना मौदूदी को क्यों बनाया गया निशाना?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | क्या विभाजन के बाद से अब तक किसी भारतीय मुस्लिम नेता ने 2047...

नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ, तेजस्वी बने डिप्टी सीएम

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | बिहार में जनता दल-यूनाइटेड और भाजपा गठबंधन टूटने के बाद बुधवार को नीतीश कुमार...

भीमा कोरेगांव मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मेडिकल आधार पर वरवर राव को दी ज़मानत

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को भीमा कोरेगांव के मामले में आरोपी 84 वर्षीय पी...

बिहार में भाजपा-जदयू गठबंधन टूटा, राजद से गठजोड़, महागठबंधन के साथ बनेगी नई सरकार

ख़ान इक़बाल | इंडिया टुमारो नई दिल्ली | बिहार में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और जनता दल यूनाईटेड (जदयू)...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here