Friday, August 12, 2022
Home यूपी चुनाव क्या उत्तर प्रदेश के विधान परिषद चुनाव में चल रही सत्ताधारी पार्टी...

क्या उत्तर प्रदेश के विधान परिषद चुनाव में चल रही सत्ताधारी पार्टी की मनमानी?

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो

लखनऊ | यूपी में विधान परिषद के चुनाव में सत्ता का दुरुपयोग और दबंगई के बल पर भाजपा ने सपा गठबंधन के 4 उम्मीदवारों के नामांकन पत्र खारिज करवा दिया है। सपा ने यूपी के मुख्य चुनाव अधिकारी से इसकी शिकायत की है, लेकिन इस पर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है।

इस प्रकार भाजपा के 4 उम्मीदवार निर्विरोध एमएलसी निर्वाचित हो जाएंगे। केवल इनकी घोषणा किया जाना बाकी रह गया है।

यूपी में विधान परिषद के चुनाव में जिसकी लाठी उसकी भैंस वाली कहावत चरितार्थ हो रही है। क्योंकि जिस तरह सपा -रालोद गठबंधन के उम्मीदवारों के नामांकन पत्र खारिज हो रहे हैं, उससे तो ऐसा ही लगता है।

यूपी में विधान परिषद की 36 सीटों के लिए नामांकन पत्र दाखिल किए जा चुके हैं। आज नामांकन पत्रों की जांच की जा रही है। नामांकन पत्रों की जांच के दौरान आज बुलन्दशहर सीट से सपा -रालोद गठबंधन की उम्मीदवार सुनीता शर्मा का पर्चा खारिज कर दिया गया। सुनीता शर्मा के पर्चा खारिज होने के बाद सपा-रालोद गठबंधन के समर्थक नाराज़ हो गये और वह गुस्से में पर्चा खारिज किए जाने को सोची-समझी साज़िश बता रहे हैं।

आरोप है कि भाजपा सरकार के इशारे पर सुनीता शर्मा का पर्चा खारिज किया गया है। सपा-रालोद गठबंधन के समर्थक बुलन्दशहर कलेक्ट्रेट परिसर में जमा हुए हैं और वह कुछ सुनने को तैयार नहीं हैं। इस स्थिति के पैदा हो जाने से भारी संख्या में सुरक्षा बल कलेक्ट्रेट परिसर पहुंच गए हैं और वह स्थिति को नियंत्रित करने का प्रयास कर रहे हैं।

बुलन्दशहर कलेक्ट्रेट परिसर पूरी तरह छावनी में तब्दील हो गया है। सुनीता शर्मा के नामांकन पत्र के खारिज होने से अब भाजपा उम्मीदवार नरेन्द्र भाटी का निर्विरोध एमएलसी निर्वाचित होना तय माना जा रहा है।

सुनीता शर्मा के नामांकन पत्र खारिज होने का मामला अभी सुलझा भी नहीं है कि इसी बीच लखीमपुर खीरी से सपा उम्मीदवार अनुराग पटेल का नामांकन पत्र भी खारिज कर दिया गया है। अनुराग पटेल के नामांकन पत्र खारिज करने का कारण उनका शपथ पत्र नोटरी करने वाले वकील का रिनीवल न होना बताया जा रहा है।

सपा का आरोप है कि उसके उम्मीदवार का नामांकन पत्र जानबूझकर भाजपा सरकार के इशारे पर खारिज किया गया है। नामांकन पत्र खारिज कर दिए जाने से यहां पर भी तनाव की स्थिति पैदा हो गई है। सपा नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा जिलाधिकारी के कार्यालय पर हंगामा किया जा रहा है। इससे स्थिति तनावपूर्ण हो गई है।

इसी बीच सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर सपा के एक प्रतिनिधि मंडल ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी, उत्तर प्रदेश, लखनऊ को एक ज्ञापन देकर मथुरा-एटा-मैनपुरी स्थानीय प्राधिकारी निर्वाचन क्षेत्र के लिए समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी एमएलसी उदयवीर सिंह व राकेश यादव को जिला व पुलिस प्रशासन द्वारा बंधक बना लिए जाने का आरोप लगाया है।

इसके साथ ही ज्ञापन में सपा कार्यकर्ताओं पर भाजपा के गुंडों द्वारा पथराव किए जाने, सपा के दोनों प्रत्याशियों का नामांकन पत्र खारिज किए जाने की साजिश के विरुद्ध शिकायत की है और तत्काल सख्त कार्यवाही की मांग की है। इसके साथ ही साथ सपा ने उपरोक्त शिकायत को संज्ञान में लेकर तत्काल सशस्त्र पुलिस की अभिरक्षा में दोनों प्रत्याशियों को नामांकन कक्ष तक पहुंचाने, उनका नामांकन कराने तथा उनकी कड़ी सुरक्षा की तत्काल व्यवस्था किए जाने की मांग की है।

सपा प्रतिनिधि मंडल के सदस्य एवं पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राजेंद्र चौधरी और प्रदेश सपा अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने मुख्य चुनाव अधिकारी से ज्ञापन के जरिए यह मांग भी की है कि सपा के दोनों प्रत्याशियों के नामांकन पत्र दाखिल करने की व्यवस्था की जाए और नामांकन पत्र दाखिल करने की प्रक्रिया दोबारा शुरू की जाए, जिससे स्वतंत्र, निष्पक्ष और निर्भीक चुनाव संपन्न हो सके।

इस मामले में अभी तक उत्तर प्रदेश के चुनाव अधिकारी ने कोई निर्णय नहीं किया है। लेकिन इसी बीच यह पता चला है कि एटा, मथुरा और लखीमपुर खीरी के सपा उम्मीदवारों के नामांकन पत्र खारिज कर दिए गए हैं।

इस प्रकार बुलन्दशहर समेत एटा, मथुरा और लखीमपुर खीरी से भाजपा के 4 विधान परिषद सदस्यों के निर्विरोध निर्वाचन का रास्ता साफ हो गया है। अब इनके केवल निर्वाचित घोषित किए जाने की औपचारिकता बाकी रह गई है।

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

भीमा-कोरेगांव मामला: 82 वर्षीय वरवर राव को मिली ज़मानत, 13 अन्य अभी भी सलाखों के पीछे

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिमी महाराष्ट्र के भीमा-कोरेगांव में जातिगत हिंसा की साजिश रचने...
- Advertisement -

पीएम मोदी को लिखे गए ‘ओपेन लेटर’ में मौलाना मौदूदी को क्यों बनाया गया निशाना?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | क्या विभाजन के बाद से अब तक किसी भारतीय मुस्लिम नेता ने 2047...

नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ, तेजस्वी बने डिप्टी सीएम

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | बिहार में जनता दल-यूनाइटेड और भाजपा गठबंधन टूटने के बाद बुधवार को नीतीश कुमार...

भीमा कोरेगांव मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मेडिकल आधार पर वरवर राव को दी ज़मानत

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को भीमा कोरेगांव के मामले में आरोपी 84 वर्षीय पी...

Related News

भीमा-कोरेगांव मामला: 82 वर्षीय वरवर राव को मिली ज़मानत, 13 अन्य अभी भी सलाखों के पीछे

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिमी महाराष्ट्र के भीमा-कोरेगांव में जातिगत हिंसा की साजिश रचने...

पीएम मोदी को लिखे गए ‘ओपेन लेटर’ में मौलाना मौदूदी को क्यों बनाया गया निशाना?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | क्या विभाजन के बाद से अब तक किसी भारतीय मुस्लिम नेता ने 2047...

नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ, तेजस्वी बने डिप्टी सीएम

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | बिहार में जनता दल-यूनाइटेड और भाजपा गठबंधन टूटने के बाद बुधवार को नीतीश कुमार...

भीमा कोरेगांव मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मेडिकल आधार पर वरवर राव को दी ज़मानत

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को भीमा कोरेगांव के मामले में आरोपी 84 वर्षीय पी...

बिहार में भाजपा-जदयू गठबंधन टूटा, राजद से गठजोड़, महागठबंधन के साथ बनेगी नई सरकार

ख़ान इक़बाल | इंडिया टुमारो नई दिल्ली | बिहार में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और जनता दल यूनाईटेड (जदयू)...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here