Tuesday, May 17, 2022
Home पॉलिटिक्स मध्यप्रदेश: भीड़ के हमले का शिकार चूड़ी विक्रेता तस्लीम को...

मध्यप्रदेश: भीड़ के हमले का शिकार चूड़ी विक्रेता तस्लीम को 107 दिन की क़ैद के बाद मिली ज़मानत

ख़ान इक़बाल | इंडिया टुमारो

नई दिल्ली | चूड़ी विक्रेता तस्लीम अहमद को 107 दिन जेल में रहने के बाद मध्य प्रदेश हाईकोर्ट से आख़िरकार ज़मानत मिल गई है. मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय की इंदौर पीठ ने तसलीम को ज़मानत दी है.

न्यायमूर्ति सुजॉय पॉल ने 50,000 रुपये के निजी मुचलके और इतनी ही राशि की स्थानीय ज़मानत पर ज़मानत दी है.

तस्लीम, 13 वर्षीय लड़की का यौन उत्पीड़न करने और दो हचान पत्र रखने के आरोप में जेल में बंद था.

अगस्त 2021 में तस्लीम अहमद का नाम उस समय चर्चा में आया जब हिन्दूवादी संगठनों के लोगों द्वारा उसके साथ मारपीट की गई थी. आरोप था कि उन्हें मुस्लिम पहचान के कारण पीटा गया था.

तस्लीम उत्तर प्रदेश के हरदोई का रहने वाला है जिसे 23 अगस्त को मध्य प्रदेश के इंदौर के बाणगंगा इलाके से गिरफ्तार किया गया था. तस्लीम ने आधा दर्जन लोगों पर उसे मारने और 10,000 रुपये लूटने का आरोप लगते हुए शिकायत दर्ज कराई थी.

सोशल मीडिया पर इसी साल अगस्त माह में एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें तस्लीम अहमद को कुछ हिन्दूवादी संगठनों के लोगों ने घेर रखा था और उनके साथ मारपीट की जा रही थी.

वीडियो में हिन्दूवादी संगठनों के लोगों को यह कहते हुए सुना जा सकता था कि, “हिन्दू इलाक़े में आकर तुम चूड़ी कैसे बेच सकते हो?”

न्यायमूर्ति सूजोय पॉल ने तस्लीम को ज़मानत देते हुए कहा कि, “आरोप की प्रकृति ऐसी नहीं है जिससे यह निष्कर्ष निकलता हो कि आवेदक को मामले के निर्णय तक हिरासत में रहना चाहिए. इस अदालत में आवेदक का कोई आपराधिक इतिहास नहीं दिखाया जा सका.”

कोर्ट ने कहा, “यह दिखाने के लिए कोई सामग्री नहीं है कि आवेदक ने व्यक्ति या शिकायतकर्ताओं को धमकी देने में भूमिका निभाई थी. आरोप की प्रकृति को ध्यान में रखते हुए और किसी भी आपराधिक रिकॉर्ड के अभाव में, आवेदक को ज़मानत दी जाती है.”

इस मामले में पीड़ित तस्लीम अहमद के वकील एहतेशाम हाशमी ने ज़मानत पर हाई कोर्ट फ़ैसले के बाद इंडिया टुमॉरो से कहा कि, “हाईकोर्ट के ज़मानत आदेश ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि देश में संविधान सर्वोच्च है. यह संविधान की जीत है.”

तस्लीम अहमद के वक़ील एहतेशाम हाशमी से जब इंडिया टुमॉरो ने पूछा कि आख़िर इस मामले में इतनी देरी कैसे हुई? इस पर एडवोकेट हाशमी ने कहा कि, “पुलिस अधिकारियों की मिली भगत और भाजपा नेताओं समेत सरकारी वकीलों ने जानबूझ कर मामले को लटकाए रखा लेकिन अंततः न्याय की जीत हुई.”

एडवोकेट हाशमी ने कहा कि, “तस्लीम की 107 दिन की जेल पूरी तरह से अवैध थी, उसे ऐसे अपराध की सज़ा दी गई जो उसने किया ही नहीं था.”

तस्लीम अहमद के साथ मारपीट करने वाले अपराधी आज भी खुले आम घूम रहे हैं.

मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पत्रकारों से कहा था कि वह व्यक्ति खुद को हिंदू बताकर महिलाओं को चूड़ियां बेच रहा था. इसके बाद तस्लीम के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था.

एडवोकेट हाशमी कहते हैं, “उन पर सरकार ने छोटी-मोटी धाराओं में मुक़दमा दर्ज किए थे जो असल मुजरिम है वो जेल से बाहर हैं.”

इस मामले में इंदौर के कई सामाजिक कार्यकर्ताओं और नेताओं ने तस्लीम अहमद के साथ मारपीट करने वाले लोगों की गिरफ़्तारी की माँग करते हुए प्रदर्शन किया था जिसके बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को ही जिला बदर कर दिया था.

एडवोकेट हाशमी कहते हैं कि मध्य प्रदेश में क़ानून के राज जैसी कोई चीज़ नहीं बची है, जिला बदर आदतन अपराधियों को किया जाता है लेकिन मध्य प्रदेश पुलिस ने सामाजिक कार्यकर्ताओं, डॉक्टरों और प्रभावशाली लोगों को जिला बदर कर दिया.”

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

नमाज़ बाधित न हो, शिवलिंग के दावे की जगह सुरक्षित हो : ज्ञानवापी मस्जिद पर सुप्रीम कोर्ट

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे पर रोक को लेकर मुस्लिम पक्ष के द्वारा...
- Advertisement -

कर्नाटक में बजरंग दल के विवादित ‘ट्रेनिंग कैम्प’ के खिलाफ शिकायत दर्ज

नई दिल्ली | कर्नाटक के मेडीकेरी जिले के एक स्कूल परिसर में विवादित संगठन बजरंगदल द्वारा एक प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया...

ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे: वाराणसी की अदालत ने अजय मिश्रा को एडवोकेट कमिश्नर पद से हटाया

इंडिया टुमारोनई दिल्ली | वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद मामले में कोर्ट कमिश्नर अजय मिश्रा को हटाया गया है. अदालत ने ज्ञानवापी मस्जिद...

ज्ञानवापी मस्जिद, मस्जिद है और मस्जिद ही रहेगी: ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड

इंडिया टुमारो लखनऊ | ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) ने वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वेक्षण के...

Related News

नमाज़ बाधित न हो, शिवलिंग के दावे की जगह सुरक्षित हो : ज्ञानवापी मस्जिद पर सुप्रीम कोर्ट

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे पर रोक को लेकर मुस्लिम पक्ष के द्वारा...

कर्नाटक में बजरंग दल के विवादित ‘ट्रेनिंग कैम्प’ के खिलाफ शिकायत दर्ज

नई दिल्ली | कर्नाटक के मेडीकेरी जिले के एक स्कूल परिसर में विवादित संगठन बजरंगदल द्वारा एक प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया...

ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे: वाराणसी की अदालत ने अजय मिश्रा को एडवोकेट कमिश्नर पद से हटाया

इंडिया टुमारोनई दिल्ली | वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद मामले में कोर्ट कमिश्नर अजय मिश्रा को हटाया गया है. अदालत ने ज्ञानवापी मस्जिद...

ज्ञानवापी मस्जिद, मस्जिद है और मस्जिद ही रहेगी: ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड

इंडिया टुमारो लखनऊ | ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) ने वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वेक्षण के...

फव्वारे के टूटे पत्थर को शिवलिंग बता अफवाह फैलायी जा रही: अल्पसंख्यक कांग्रेस अध्यक्ष

इंडिया टुमारो लखनऊ | अल्पसंख्यक कांग्रेस अध्यक्ष शाहनवाज़ आलम ने बनारस की निचली अदालत द्वारा ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here