Sunday, December 5, 2021
Home पॉलिटिक्स कश्मीर: जामिया मस्जिद में शुक्रवार को नमाज़ की इजाज़त नहीं दी गई,...

कश्मीर: जामिया मस्जिद में शुक्रवार को नमाज़ की इजाज़त नहीं दी गई, लोगों में नाराज़गी

इश्फ़ाकुल हसन | इंडिया टुमारो

श्रीनगर | कश्मीर में शुक्रवार को प्रशासन द्वारा जामिया मस्जिद में नमाज़ पढ़ने आए लोगों को मस्जिद में प्रवेश नहीं करने देने के बाद लोगों में दुख और नाराज़गी देखने को मिली.

कश्मीर की ऐतिहासिक जामिया मस्जिद में एक बार फिर शुक्रवार को जुमा की सामूहिक नमाज़ अदा करने की इजाजत नहीं दी गई. मस्जिद में प्रवेश की अनुमति नहीं मिलने के बाद महिलाएं भावुक हो गईं. एक लंबे समय के बाद जामिया मस्जिद में नमाज़ अदा करने की उम्मीद में दूर-दराज़ के इलाकों से श्रद्धालु पुराने श्रीनगर शहर पहुंचे हुए थे.

अंजुमन औकाफ जामा मस्जिद ने बताया कि राज्य के अधिकारियों ने शुक्रवार को जामा मस्जिद में सामूहिक जुमे की नमाज़ की अनुमति नहीं दी.

अंजुमन औकाफ ने कहा, “पूरे इलाके में सुबह से ही प्रशासन द्वारा भारी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की गई थी.”

अंजुमन ने कहा कि, पुलिस कर्मियों ने मस्जिद के कर्मचारियों को मस्जिद के दरवाजे बंद करने के लिए मजबूर किया.

औकाफ ने आगे बताया कि, “मस्जिद के बाहर ‘नमाज़ियों’ की एक बड़ी भीड़ जमा थी जिसमें महिलाएं और बच्चे दोनों शामिल थे, उन सब ने प्रशासन के इस तानाशाही रवैय्ये का कड़ा विरोध किया और मांग की कि उन्हें नमाज़ अदा करने के लिए अंदर जाने दिया जाए.”

अंजुमन ने कहा कि, कोविड महामारी के बहाने जामिया मस्जिद में मुसलमानों को जुमे की नमाज़ अदा करने से रोकने के लिए की जा रही कोशिशों की हकीकत पूरी तरह से उजागर हो गई है.

अंजुमन ने कहा, “प्रशासन द्वारा बल प्रयोग कर घाटी के मुसलमानों को केंद्रीय मस्जिद में नमाज़ पढ़ने से रोकना बहुत ही चिंताजनक है और इसकी वजह से लोगों में दुःख और नाराज़गी है. घाटी के मुसलमान इस अन्याय और धार्मिक स्वतंत्रता में किए जा रहे हस्तक्षेप की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं.”

यह पहली बार नहीं है जब जामिया मस्जिद को नमाज़ के लिए बंद किया गया है. केंद्र द्वारा जम्मू और कश्मीर के विशेष दर्जे को रद्द कर करने के बाद 5 अगस्त, 2019 के बाद लगातार 17 सप्ताह के लिए मस्जिद को बंद कर दिया गया था. 2016 की अशांति के दौरान, पुराने श्रीनगर शहर के नौहट्टा इलाके में ऐतिहासिक जामिया मस्जिद में लगातार 16 सप्ताह तक कोई भी जुमे की नमाज़ अदा नहीं हो सकी थी.

कश्मीर के मुख्य मौलवी और उदारवादी हुर्रियत कांफ्रेंस के अध्यक्ष मीरवाइज़ उमर फारूक 5 अगस्त, 2019 से नजरबंद हैं.

25 अगस्त को सेना के जवानों द्वारा केंद्रीय मस्जिद में की गई तोड़फोड़ की घटना की याद में अंजुमन औफाक जामिया मस्जिद ने ऑपरेशन जामिया मस्जिद की 32 वीं वर्षगांठ मनाई. सन 1989 में एक दिन जब अधिकांश नमाज़ी मस्जिद से जा चुके थे, तब सेना ने मस्जिद में जबरन प्रवेश किया. तीन सौ लोगों को हिरासत में लिया गया और पुलिस शिविरों में ले जाया गया. बाद में 270 को रिहा कर दिया गया और 30 को गिरफ्तार कर लिया गया.

जामिया मस्जिद एकमात्र धार्मिक स्थल नहीं है जिसने राजनैतिक उथल-पुथल देखी है. इससे पहले चरार-ए-शरीफ में हज़रत शेख नूरुद्दीन नूरानी की सूफी दरगाह 1995 में नष्ट हो गई थी, यह घटना पाकिस्तानी ‘मेजर’ मस्त गुल के नेतृत्व में उग्रवादियों और सेना के बीच एक मुठभेड़ में घटित हुई थी.पूरे टाउनशिप को धराशायी कर दिया गया था, लेकिन मस्त गुल रहस्यमय तरीके से मौके से भाग निकला था और एलओसी पार कर पीओके में पहुंच गया था.

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

CAA त्रुटिपूर्ण, यह संविधान के सिद्धांतों के विरुद्ध है: न्यायामूर्ति ए.के. गांगुली (सेवानिवृत्त)

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) एके गांगुली ने कहा है कि 2019 में भाजपा सरकार द्वारा पारित...
- Advertisement -

गुरुग्राम: कट्टरपंथियों द्वारा “जय श्री राम” के नारों के बीच मुसलमानों ने अदा की जुमे की नमाज़

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | भारत की संसद से मात्र 30 किलोमीटर दूर स्थित गुरुग्राम में शुक्रवार को...

राजस्थान: मुसलमानों द्वारा शपथ पत्र देने के बाद भी अधिकारी नहीं बना रहे अल्पसंख्यक प्रमाण पत्र

रहीम ख़ान | इंडिया टुमारो जयपुर | राजस्थान के अजमेर, भीलवाड़ा, पाली और राजसमंद समेत अन्य जिलों में चीता,...

क्या ASI कुतुब मीनार परिसर का संरक्षण कर रहा या इसकी मूल संरचना को नष्ट कर रहा?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | दिल्ली में स्थित ऐतिहासिक स्मारक कुतुब मीनार को लेकर दक्षिणपंथी समूहों द्वारा पैदा...

Related News

CAA त्रुटिपूर्ण, यह संविधान के सिद्धांतों के विरुद्ध है: न्यायामूर्ति ए.के. गांगुली (सेवानिवृत्त)

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) एके गांगुली ने कहा है कि 2019 में भाजपा सरकार द्वारा पारित...

गुरुग्राम: कट्टरपंथियों द्वारा “जय श्री राम” के नारों के बीच मुसलमानों ने अदा की जुमे की नमाज़

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | भारत की संसद से मात्र 30 किलोमीटर दूर स्थित गुरुग्राम में शुक्रवार को...

राजस्थान: मुसलमानों द्वारा शपथ पत्र देने के बाद भी अधिकारी नहीं बना रहे अल्पसंख्यक प्रमाण पत्र

रहीम ख़ान | इंडिया टुमारो जयपुर | राजस्थान के अजमेर, भीलवाड़ा, पाली और राजसमंद समेत अन्य जिलों में चीता,...

क्या ASI कुतुब मीनार परिसर का संरक्षण कर रहा या इसकी मूल संरचना को नष्ट कर रहा?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | दिल्ली में स्थित ऐतिहासिक स्मारक कुतुब मीनार को लेकर दक्षिणपंथी समूहों द्वारा पैदा...

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर में एक ब्राह्मण परिवार पलायन को मजबूर

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो लखनऊ | यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर में अपराधियों की...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here