Saturday, September 25, 2021
Home पॉलिटिक्स दिल्ली पुलिस ने ईमानदारी से नहीं की दिल्ली दंगों की जांच :...

दिल्ली पुलिस ने ईमानदारी से नहीं की दिल्ली दंगों की जांच : डॉ. ज़फरुल इस्लाम ख़ान

मसीहुज़्ज़मा अंसारी | इंडिया टुमारो

नई दिल्ली । प्रेस क्लब ऑफ इंडिया, नई दिल्ली में उमर ख़ालिद की गिरफ्तारी के एक साल पूरे होने पर सोमवार को नागरिक समाज द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें पुलिस और प्रशासन द्वारा झूठे आरोपों के तहत गिरफ्तार किए गए छात्रों, युवाओं और सामाजिक कार्यकर्ताओं को रिहा करने और असल मुजरिमों को गिरफ्तार किए जाने की मांग की गई.

इस कार्यक्रम में सामाजिक कार्यकर्ता और शिक्षाविद सय्यदा हमीद, सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण, दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व चेयरमैन डॉ. ज़फरुल इस्लाम ख़ान, किसान नेता जसबीर कौर, जर्नलिस्ट सिद्धार्थ वर्धराजन, राज्यसभा सांसद मनोज झा और वरिष्ठ पत्रकार भारत भूषण शामिल रहे.

कार्यक्रम में वक्ता के रूप में शामिल डॉ. ज़फरुल इस्लाम ख़ान, पूर्व चेयरमैन, दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने अपनी बात साझा करते हुए कहा कि, “दिल्ली पुलिस असल मुजरिमों को गिरफ्तार करने के बजाए दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग द्वारा जारी दंगों की सच्चाई उजागर करने वाली रिपोर्ट को ही मानने से इनकार करते हुए कोर्ट चली गई. सैकड़ों FIR पर अभी भी कोई सुनवाई नहीं हुई. अगर दिल्ली पुलिस ईमानदारी से जांच करे तो असल मुजरिम सामने अजाएंगे जिन्हें बचाने की कोशिश की जा रही है.”

उन्होंने कहा कि, “दिल्ली पुलिस ने हमारे किसी लेटर का जवाब नहीं दिया जिस से स्पष्ट है कि पुलिस किसी और के इशारे पर काम करते हुए असल आरोपियों को बचाना चाह रही है. कुछ दंगाई तो गिरफ्तार हैं मगर कपिल मिश्रा जैसे बड़े दंगाई जिनके ख़िलाफ दिल्ली पुलिस को साक्ष्य भी दिया गया था उनपर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हो सकी है और निर्दोषों को जेल में बंद किया गया है.”

डॉ. ज़फरुल इस्लाम ख़ान ने कहा, “दिल्ली दंगे को और उसकी जांच को देखकर साफ लगता है कि पुलिस ऊपर से मिले आदेश का पालन कर रही थी और बड़े आरोपियों को बचा रही है.”

दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग द्वारा दंगों पर जारी की गई फैक्ट फाइंडिंग रिपोर्ट पर बात करते हुए ख़ान ने कहा कि, “दिल्ली पुलिस हाईकोर्ट गई है कि इस रिपोर्ट को किसी दूसरे केस में पेश करने की इजाज़त नहीं होनी चाहिए जो कि शायद न्यायिक इतिहास में पहली बार पुलिस एक प्रामाणिक और विश्वसनीय रिपोर्ट को मानने से इंकार कर रही है और आरोपियों को बचा रही है.”

इस कार्यक्रम में राजद नेता और राज्यसभा सांसद मनोज झा ने अपनी बात रखते हुए कहा कि उमर ख़ालिद जैसे युवा राष्ट्र की धरोहर हैं. अगर उमर ख़ालिद दंगे करा सकता तो किसी प्रदेश का मुख्यमंत्री होता. सरकार ने संविधान बचाने की लड़ाई लड़ने वाले युवाओं के साथ नाइंसाफी की है.

उमर खालिद के पिता और वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष सैयद क़ासिम रसूल इल्यास ने इंडिया टुमारो को बताया कि उमर खालिद पर पुलिस द्वारा लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद हैं, कई मामलों में कोर्ट ने पुलिस की कार्रवाई पर फटकार लगाया है जिससे पुलिस और सरकार की भूमिका उजागर हुई है.

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

मौलाना कलीम सिद्दीकी की गिरफ़्तारी और असम में पुलिस बर्बरता को लेकर AMU छात्रों का प्रदर्शन

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) के छात्रों ने शुक्रवार को युनिवर्सिटी में असम में...
- Advertisement -

दिल्ली : कोर्ट रूम में जज के सामने गैंगस्टर की हत्या, दो हमलावरों को पुलिस ने मार गिराया

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | दिल्ली के रोहिणी कोर्ट परिसर में शुक्रवार को बदमाशों ने दिल्ली के मोस्ट वॉन्टेड...

सरकारी नीतियों के कारण आगरा में 35 इकाइयां बंद, हज़ारों जूता कामगार हुए बेरोज़गार

आगरा | आगरा के लगभग पांच हजार प्रशिक्षित जूता कामगार अब बिना काम के हैं, क्योंकि कुछ साल पहले कई सरकारी विभागों...

जमाअत इस्लामी हिन्द ने मौलाना कलीम सिद्दीकी को तुरंत रिहा किये जाने की मांग की

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | जमाअत इस्लामी हिन्द के अध्यक्ष सैयद सआदतुल्लाह हुसैनी ने मीडिया को जारी अपने एक...

Related News

मौलाना कलीम सिद्दीकी की गिरफ़्तारी और असम में पुलिस बर्बरता को लेकर AMU छात्रों का प्रदर्शन

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) के छात्रों ने शुक्रवार को युनिवर्सिटी में असम में...

दिल्ली : कोर्ट रूम में जज के सामने गैंगस्टर की हत्या, दो हमलावरों को पुलिस ने मार गिराया

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | दिल्ली के रोहिणी कोर्ट परिसर में शुक्रवार को बदमाशों ने दिल्ली के मोस्ट वॉन्टेड...

सरकारी नीतियों के कारण आगरा में 35 इकाइयां बंद, हज़ारों जूता कामगार हुए बेरोज़गार

आगरा | आगरा के लगभग पांच हजार प्रशिक्षित जूता कामगार अब बिना काम के हैं, क्योंकि कुछ साल पहले कई सरकारी विभागों...

जमाअत इस्लामी हिन्द ने मौलाना कलीम सिद्दीकी को तुरंत रिहा किये जाने की मांग की

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | जमाअत इस्लामी हिन्द के अध्यक्ष सैयद सआदतुल्लाह हुसैनी ने मीडिया को जारी अपने एक...

जैसा पुलिस कहे, मानिए वर्ना 1 मिनट 12 सेकेंड की वीडियो में आप निपटा दिए जाएंगे: रवीश कुमार

रवीश कुमार इसके पहले फ्रेम में सात पुलिसवाले दिख रहे हैं। सात से ज़्यादा भी हो सकते हैं। सभी...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here