Saturday, September 25, 2021
Home पॉलिटिक्स असम की नाकेबंदी से मिजोरम में दवाओं की किल्लत, स्वास्थ्य मंत्री ने...

असम की नाकेबंदी से मिजोरम में दवाओं की किल्लत, स्वास्थ्य मंत्री ने केंद्र को लिखा पत्र

मिजोरम के स्वास्थ्य मंत्री ललथंगलियाना ने कहा कि इस देश के इतिहास में पहले कभी किसी ने अपने साथी नागरिकों के साथ इस तरह के कठोर और अमानवीय कृत्य का सहारा नहीं लिया है। भारतीय संविधान द्वारा गारंटीकृत जीवन के मूल मौलिक अधिकार, जिसमें बुनियादी स्वास्थ्य देखभाल और दवाओं का अधिकार शामिल है, को असम सरकार की गतिविधियों के कारण वंचित कर दिया गया है। लगभग एक सप्ताह तक इस समस्या को झेलने के बावजूद इस मोर्चे पर केंद्र सरकार की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

आइजोल: मिजोरम के स्वास्थ्य मंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह और स्वास्थ्य मंत्रियों से असम के साथ चल रही तनातनी के बीच हस्तक्षेप करने का आग्रह किया है, क्योंकि राज्य आर्थिक नाकेबंदी के कारण जीवन रक्षक और कोविड-19 संबंधित दवाओं सहित अन्य जरूरी दवाओं के गंभीर संकट का सामना कर रहा है।

राष्ट्रीय राजमार्ग-306 पर नाकेबंदी के कारण मिजोरम की स्वास्थ्य सेवा चरमरा गई है, जिसे लेकर अब स्वास्थ्य मंत्री ने पीएम मोदी के अलावा केंद्रीय गृह और स्वास्थ्य मंत्रियों से संज्ञान लेने की अपील की है।

मिजोरम के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री आर. ललथंगलियाना ने मंगलवार को आइजोल में कहा कि पहाड़ी राज्य महत्वपूर्ण दवाओं के गंभीर संकट का सामना कर रहा है और प्रधानमंत्री मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया से किसी भी स्वास्थ्य संकट को रोकने के लिए जल्द से जल्द हस्तक्षेप करने का आग्रह किया, जो जल्द ही मिजोरम को अपनी चपेट में ले सकता है और जो किसी के भी नियंत्रण से बाहर होगा।

ललथंगलियाना ने प्रधानमंत्री, केंद्रीय गृह मंत्री और स्वास्थ्य मंत्री को अलग-अलग पत्र लिखे, जिसमें राष्ट्रीय राजमार्ग-306 पर आर्थिक नाकाबंदी के कारण दवा संकट का विवरण दिया गया है। यह राजमार्ग पहाड़ी राज्य को असम के माध्यम से देश के बाकी हिस्सों से जोड़ता है।

ललथंगलियाना ने कहा कि 26 जुलाई को सीमा विवाद और संघर्ष के बाद, असम सरकार ने 29 जुलाई को उन सभी ट्रांसपोर्टरों (गुवाहाटी में) को बुलाया, जिसके बाद सामान के परिवहन पर रोक लग गई है।

उन्होंने कहा, इससे राज्य में आने वाले किसी भी प्रकार के सामान पर पूरी तरह से रोक लग गई, जिसमें बुनियादी दवाएं, जीवन रक्षक दवाएं और कोविड -19 दवाएं भी शामिल हैं। यहां तक कि ऑक्सीजन सिलेंडर, ऑक्सीजन संयंत्र सामग्री और कोविड-19 परीक्षण किट भी अवरुद्ध कर दिए गए हैं।

मंत्री ने कहा कि इस देश के इतिहास में पहले कभी किसी ने अपने साथी नागरिकों के साथ इस तरह के कठोर और अमानवीय कृत्य का सहारा नहीं लिया है।

ललथंगलियाना ने कहा, भारतीय संविधान द्वारा गारंटीकृत जीवन के मूल मौलिक अधिकार, जिसमें बुनियादी स्वास्थ्य देखभाल और दवाओं का अधिकार शामिल है, को असम सरकार की गतिविधियों के कारण वंचित कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि लगभग एक सप्ताह तक इस समस्या को झेलने के बावजूद इस मोर्चे पर केंद्र सरकार की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, देश के सच्चे नागरिकों के रूप में, हम इस महत्वपूर्ण समय में केंद्र सरकार से सौहार्दपूर्ण और सकारात्मक प्रतिक्रिया और हस्तक्षेप के हकदार हैं।

उन्होंने कहा, इस देश के प्रत्येक नागरिक को चिकित्सा देखभाल और दवाओं का अधिकार है और इस अधिकार से इनकार करना इस देश के मूल कानूनों के विपरीत है। मिजोरम के किसी भी नागरिक को दवाओं की अनुपलब्धता के कारण अपनी जान नहीं गंवानी चाहिए, जो कि मनुष्य हैं -जैसा कि असम सरकार द्वारा किया जा रहा है।

वहीं मिजोरम के मुख्य सचिव लालनुनमाविया चुआंगो ने कहा कि राज्य सरकार ने केंद्रीय गृह मंत्रालय के साथ आर्थिक नाकेबंदी का मुद्दा उठाया है। उन्होंने उम्मीद जताई कि गृह मंत्रालय (एमएचए) असम सरकार को दक्षिणी असम में नाकाबंदी हटाने के लिए मनाने में सक्षम होगा।

उन्होंने मीडिया से कहा, मिजोरम की 95 फीसदी आपूर्ति राष्ट्रीय राजमार्ग-306 से होकर जाती है, जो हमारे राज्य की जीवन रेखा है।

केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला को लिखे पत्र में, गृह सचिव ने यह भी अनुरोध किया कि केंद्र हस्तक्षेप करे और असम सरकार को नाकाबंदी हटाने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश दे।

इससे पहले दिन में मिजोरम के स्वास्थ्य मंत्री ललथंगलियाना ने असम पर अपने राज्य की आर्थिक नाकेबंदी जारी रखने का आरोप लगाया। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि 81 फीसदी आबादी को पहली और 32 फीसदी को दूसरी खुराक (कोविड-19) मिल चुकी है।

उन्होंने कहा कि तीन लाख डोज का स्टॉक तैयार कर लिया गया है।

13 लाख की जनसंख्या वाले इस छोटे से राज्य में 39,363 कोविड संक्रमण मामले सामने आए हैं और अब तक 150 लोगों की मौत हो चुकी है।

पिछले हफ्ते, असम और मिजोरम के बीच एक बढ़े तनाव के बाद, असम के छह पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे और दोनों पक्षों के 60 से अधिक अन्य घायल हो गए थे।

(आईएएनएस)

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

मौलाना कलीम सिद्दीकी की गिरफ़्तारी और असम में पुलिस बर्बरता को लेकर AMU छात्रों का प्रदर्शन

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) के छात्रों ने शुक्रवार को युनिवर्सिटी में असम में...
- Advertisement -

दिल्ली : कोर्ट रूम में जज के सामने गैंगस्टर की हत्या, दो हमलावरों को पुलिस ने मार गिराया

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | दिल्ली के रोहिणी कोर्ट परिसर में शुक्रवार को बदमाशों ने दिल्ली के मोस्ट वॉन्टेड...

सरकारी नीतियों के कारण आगरा में 35 इकाइयां बंद, हज़ारों जूता कामगार हुए बेरोज़गार

आगरा | आगरा के लगभग पांच हजार प्रशिक्षित जूता कामगार अब बिना काम के हैं, क्योंकि कुछ साल पहले कई सरकारी विभागों...

जमाअत इस्लामी हिन्द ने मौलाना कलीम सिद्दीकी को तुरंत रिहा किये जाने की मांग की

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | जमाअत इस्लामी हिन्द के अध्यक्ष सैयद सआदतुल्लाह हुसैनी ने मीडिया को जारी अपने एक...

Related News

मौलाना कलीम सिद्दीकी की गिरफ़्तारी और असम में पुलिस बर्बरता को लेकर AMU छात्रों का प्रदर्शन

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) के छात्रों ने शुक्रवार को युनिवर्सिटी में असम में...

दिल्ली : कोर्ट रूम में जज के सामने गैंगस्टर की हत्या, दो हमलावरों को पुलिस ने मार गिराया

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | दिल्ली के रोहिणी कोर्ट परिसर में शुक्रवार को बदमाशों ने दिल्ली के मोस्ट वॉन्टेड...

सरकारी नीतियों के कारण आगरा में 35 इकाइयां बंद, हज़ारों जूता कामगार हुए बेरोज़गार

आगरा | आगरा के लगभग पांच हजार प्रशिक्षित जूता कामगार अब बिना काम के हैं, क्योंकि कुछ साल पहले कई सरकारी विभागों...

जमाअत इस्लामी हिन्द ने मौलाना कलीम सिद्दीकी को तुरंत रिहा किये जाने की मांग की

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | जमाअत इस्लामी हिन्द के अध्यक्ष सैयद सआदतुल्लाह हुसैनी ने मीडिया को जारी अपने एक...

जैसा पुलिस कहे, मानिए वर्ना 1 मिनट 12 सेकेंड की वीडियो में आप निपटा दिए जाएंगे: रवीश कुमार

रवीश कुमार इसके पहले फ्रेम में सात पुलिसवाले दिख रहे हैं। सात से ज़्यादा भी हो सकते हैं। सभी...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here