Sunday, December 5, 2021
Home पॉलिटिक्स तुर्की ने की कोविड के ख़िलाफ़ युद्ध में भारत की मदद, दो...

तुर्की ने की कोविड के ख़िलाफ़ युद्ध में भारत की मदद, दो विमानों से भेजी चिकित्सा सहायता

मसीहुज़्ज़मा अंसारी | इंडिया टुमारो

नई दिल्ली | कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई में भारत के साथ सहयोग और सहानुभूति की दिशा में क़दम बढ़ाते हुए चिकित्सा आपूर्ति करने वाला तुर्की सैन्य विमान मंगलवार को तुर्की से भारत की राजधानी नई दिल्ली के लिए रवाना हुआ था जो बुधवार को दिल्ली पहुंचा.

तुर्की के रक्षा मंत्रालय ने ट्विटर पर इस बात की जानकारी दी है साथ ही कोरोना के ख़िलाफ़ जंग में भारत के साथ खड़े रहने और हर प्रकार का सहयोग करने के लिए कहा है.

तुर्की स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा विमान से भारत भेजे गए चिकित्सा सामग्री में 630 ऑक्सीजन ट्यूब, पांच ऑक्सीजन जनरेटर, 50 वेंटिलेटर और दवाओं के 50,000 बॉक्स शामिल हैं जो बुधवार को भारत पहुंचा.

भारतीय विदेश मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्ता आरिन्धम बाघची और तुर्की में भारत के राजदूत संजय कुमार पांडा ने तुर्की द्वारा भारत भेजे गए चिकित्सा सहायता सामग्री के लिए तुर्की का धन्यवाद कहा है.

तुर्की द्वारा भारत को सहायता के लिए भेजे गए सामानों सामानों के कवर पर 13वीं शताब्दी के कवि मौलाना जलालुद्दीन  रूमी की ये पंक्तियां लिखी हुई थीं –

After hopelessness there is so much hope and after darkness there is much brighter sun. – Maulana Jalaluddin Rumi

“निराशा के बाद उम्मीदें है और अंधेरे के बाद चमकते सूरज सा उजाला होता है” –

साथ ही संदेश: ‘तुर्की से भारत के लोगों के लिए प्यार .’

अनादोलो एजेंसी के अनुसार, तुर्की रेड क्रिसेंट के प्रमुख इब्राहिम अल्तान ने संवाददाताओं से कहा कि, उन्होंने राष्ट्रपति रेसेप तय्यप एर्दोगान के आदेश पर तुर्की के विदेश मंत्रालय की सहायता से तथा स्वास्थ्य, उद्योग व प्रौद्योगिकी और रक्षा मंत्रालयों के सहयोग के साथ यह मदद भारत को भेज रहा है.

एक सदी से भी अधिक पुराने तुर्की-भारत संबंधों का उल्लेख करते हुए अल्तान ने कहा कि, “भारत ने बाल्कन और स्वतंत्रता संग्राम दोनों युद्धों के दौरान हमारे देश को सहायता भेजी थी और हमेशा कोशिशों में हमारे साथ खड़ा रहा है. आज हम उन्हें सहायता भेज रहे हैं.”

बुधवार को चिकित्सा सहायता सामग्री के साथ तुर्की से भारत पहुंचे विमान और मेडिकल ऐड की तस्वीरों के साथ तुर्की के विदेश मंत्रालय ने ट्विट करते हुए लिखा कि दोनों देशों के बीच सहायता और सहानुभूति का इस से बेहतर अवसर कोई नहीं हो सकता.

तुर्की विदेश मंत्रालय ने ट्विट किया, “हमारे राष्ट्रों के बीच एकजुटता के लिए यही बेहतर समय है. मित्रता और सहयोग की भावना से, तुर्की Covid-19 महामारी से लड़ने के अपने प्रयासों के साथ भारत की मदद के लिए तत्पर है.

तुर्किश प्रेसिडेंसी के प्रवक्ता इब्राहीम कालिन ने ट्विट कर कहा है, “तुर्की, दुनिया भर के समुदायों के साथ कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई में उनके साथ खड़ा है. हमें इस कठिन समय में भारत के लोगों के साथ खड़े रहने पर गर्व है.”

भारतीय विदेश मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्ता आरिन्धम बाघची ने ट्विट कर तुर्की का धन्यवाद कहा है.

आरिन्धम बाघची ने ट्विट कर कहा है, “आज आने वाली चिकित्सा आपूर्ति की खेप के लिए टर्किश रेड क्रिसेंट सोसाइटी को धन्यवाद.”

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता आरिन्धम बाघची ने ट्विट में यह भी कहा कि, “तुर्की सरकार की ओर से एकजुटता का यह भाव सराहनीय है.”

तुर्की में भारत के राजदूत संजय कुमार पांडा ने तुर्की द्वारा भारत में भेजे गए चिकित्सा सहायता सामग्री के लिए धन्यवाद कहा है.

संजय कुमार ने ट्विट कर कहा है, “दो विमानों द्वारा महत्वपूर्ण चिकित्सा आपूर्ति! इस चुनौतीपूर्ण समय में भारत का साथ देने के लिए तुर्की को धन्यवाद.”

https://twitter.com/AmbSanjayPanda/status/1397807297821396994?s=20
- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

CAA त्रुटिपूर्ण, यह संविधान के सिद्धांतों के विरुद्ध है: न्यायामूर्ति ए.के. गांगुली (सेवानिवृत्त)

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) एके गांगुली ने कहा है कि 2019 में भाजपा सरकार द्वारा पारित...
- Advertisement -

गुरुग्राम: कट्टरपंथियों द्वारा “जय श्री राम” के नारों के बीच मुसलमानों ने अदा की जुमे की नमाज़

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | भारत की संसद से मात्र 30 किलोमीटर दूर स्थित गुरुग्राम में शुक्रवार को...

राजस्थान: मुसलमानों द्वारा शपथ पत्र देने के बाद भी अधिकारी नहीं बना रहे अल्पसंख्यक प्रमाण पत्र

रहीम ख़ान | इंडिया टुमारो जयपुर | राजस्थान के अजमेर, भीलवाड़ा, पाली और राजसमंद समेत अन्य जिलों में चीता,...

क्या ASI कुतुब मीनार परिसर का संरक्षण कर रहा या इसकी मूल संरचना को नष्ट कर रहा?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | दिल्ली में स्थित ऐतिहासिक स्मारक कुतुब मीनार को लेकर दक्षिणपंथी समूहों द्वारा पैदा...

Related News

CAA त्रुटिपूर्ण, यह संविधान के सिद्धांतों के विरुद्ध है: न्यायामूर्ति ए.के. गांगुली (सेवानिवृत्त)

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) एके गांगुली ने कहा है कि 2019 में भाजपा सरकार द्वारा पारित...

गुरुग्राम: कट्टरपंथियों द्वारा “जय श्री राम” के नारों के बीच मुसलमानों ने अदा की जुमे की नमाज़

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | भारत की संसद से मात्र 30 किलोमीटर दूर स्थित गुरुग्राम में शुक्रवार को...

राजस्थान: मुसलमानों द्वारा शपथ पत्र देने के बाद भी अधिकारी नहीं बना रहे अल्पसंख्यक प्रमाण पत्र

रहीम ख़ान | इंडिया टुमारो जयपुर | राजस्थान के अजमेर, भीलवाड़ा, पाली और राजसमंद समेत अन्य जिलों में चीता,...

क्या ASI कुतुब मीनार परिसर का संरक्षण कर रहा या इसकी मूल संरचना को नष्ट कर रहा?

सैयद ख़लीक अहमद नई दिल्ली | दिल्ली में स्थित ऐतिहासिक स्मारक कुतुब मीनार को लेकर दक्षिणपंथी समूहों द्वारा पैदा...

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर में एक ब्राह्मण परिवार पलायन को मजबूर

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो लखनऊ | यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर में अपराधियों की...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here