Tuesday, May 18, 2021
Home पॉलिटिक्स नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफज़ई ने अल्पसंख्यकों की सुरक्षा को लेकर उठाई...

नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफज़ई ने अल्पसंख्यकों की सुरक्षा को लेकर उठाई आवाज़

इंडिया टुमारो

नई दिल्ली | सबसे युवा नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफज़ई ने हिन्दुस्तान और पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की सुरक्षा की मांग की है. मलाला ने कहा है कि चाहे वह पाकिस्तान हो या भारत अल्पसंख्यकों की सुरक्षा और उनके प्रदर्शन करने के अधिकार को सुनिश्चित किया जाना चाहिए.

उन्होंने 28 फरवरी को जयपुर लिटरेरी फेस्टिवल (JLF) -2021 में अपने वर्चुअल संबोधन में यह बयान दिया. हालांकि, मलाला ने पूर्व में भारत सरकार को अपनी टिप्पणियों से असहज करने वाला बयान दिया है, ख़ासकर जब भारत सरकार ने धारा 370 को निरस्त कर दिया था और जम्मू और कश्मीर के विशेष राज्य का दर्जा वापस ले लिया था. मलाला को लेफ्ट विचारधारा की तरफ झुकाव रखने वाले इतिहासकार विलियम डेलरिम्पल और जेएलएफ -2021 के महोत्सव निदेशक ने जेएलएफ में आमंत्रित किया था.

अल्पसंख्यकों की सुरक्षा का आह्वान करते हुए, उन्होंने कहा कि यह मुद्दा धर्म से नहीं बल्कि “सत्ता द्वारा शोषण” से जुड़ा है. मलाला ने आग्रह किया कि इस मुद्दे को गंभीरता से लेने की ज़रूरत है.

उन्होंने कहा कि, अल्पसंख्यकों को दुनिया भर में खतरा है और उनके अधिकार उन्हें नहीं दिए गए हैं. उन्होंने कहा, “पाकिस्तान में हिंदू और ईसाई, भारत में मुस्लिम, दलित और अन्य अल्पसंख्यक… फिलिस्तीन, रोहिंग्या शरणार्थी. यह धर्म नहीं है, यह सत्ता का शोषण है, यह सिर्फ गरीबों और अल्पसंख्यकों के खिलाफ है.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने इस समारोह में सबसे कम उम्र की नोबेल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफज़ई के हवाले से कहा है, “अल्पसंख्यकों को हर देश से और वैश्विक स्तर पर सुरक्षा की आवश्यकता होती है. उन्हें एक आवाज़ की ज़रूरत है, सुरक्षा की ज़रूरत है और इसे मानवाधिकार संगठनों और सरकारों को गंभीरता से लेने के लिए एक चेतावनी है.”

मलाला ने कहा कि भारत और पाकिस्तान को “सच्चे और अच्छे दोस्त” के रूप में देखना उसका सपना था.

भारत में इंटरनेट बंदी और “शांतिपूर्ण ढंग से विरोध कर रहे” कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि यह “चिंताजनक” था.

पाकिस्तान की रहने वाली मलाला को अक्टूबर 2012 में पाकिस्तान में तालिबान ने अपने देश में लड़कियों की शिक्षा की वकालत करने के लिए गोली मार दी थी.

इस वर्ष के समारोह में बोलने वाले 300 बड़े नामों में अमेरिकी भाषाविद् नोम चोम्स्की, 2020 बुकर पुरस्कार विजेता डगलस स्टुअर्ट, नोबेल पुरस्कार विजेता जोसेफ स्टिग्लिट्ज़, माइक्रोसॉफ्ट कॉरपोरेशन के सह-संस्थापक बिल गेट्स और अभिनेता-लेखक प्रियंका चोपड़ा शामिल हैं.

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

उत्तर प्रदेश: चित्रकूट जेल में हुई तीन हत्याएं, योगी सरकार की कानून व्यवस्था पर उठे सवाल

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो लखनऊ । उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जिले में जेल के अंदर क़ैदियों की हुई...
- Advertisement -

कोविड-19 : तिरुपति में तब्लीगी जमात ने 560 शवों का किया अंतिम संस्कार

इंडिया टुमारो तिरुपति | कोरोना संक्रमण से देशभर में लगातार मौतें हो रही हैं और इसका प्रकोप हर तरफ...

अस्पतालों की अव्यवस्था पर लिखने के कारण पत्रकार नासिर की पहले गिरफ्तारी, फिर रिहा किया गया

रहीम ख़ान | इंडिया टुमारो जयपुर | राजस्थान के टोंक शहर में एक पत्रकार नासिर खान को शनिवार को...

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय कोरोना की चपेट में, 20 दिनों में डेढ़ दर्जन से अधिक प्रोफेसर्स की मौत

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो लखनऊ । अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय कोरोना की चपेट में है। कोरोना के कारण यहां...

Related News

उत्तर प्रदेश: चित्रकूट जेल में हुई तीन हत्याएं, योगी सरकार की कानून व्यवस्था पर उठे सवाल

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो लखनऊ । उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जिले में जेल के अंदर क़ैदियों की हुई...

कोविड-19 : तिरुपति में तब्लीगी जमात ने 560 शवों का किया अंतिम संस्कार

इंडिया टुमारो तिरुपति | कोरोना संक्रमण से देशभर में लगातार मौतें हो रही हैं और इसका प्रकोप हर तरफ...

अस्पतालों की अव्यवस्था पर लिखने के कारण पत्रकार नासिर की पहले गिरफ्तारी, फिर रिहा किया गया

रहीम ख़ान | इंडिया टुमारो जयपुर | राजस्थान के टोंक शहर में एक पत्रकार नासिर खान को शनिवार को...

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय कोरोना की चपेट में, 20 दिनों में डेढ़ दर्जन से अधिक प्रोफेसर्स की मौत

अखिलेश त्रिपाठी | इंडिया टुमारो लखनऊ । अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय कोरोना की चपेट में है। कोरोना के कारण यहां...

धार्मिक जनमोर्चा की बैठक में धर्मगुरुओं ने कहा, आपदा में सेवा कर नफरत पर विजय प्राप्त करें

इंडिया टुमारो नई दिल्ली | कोरोना महामारी के इस संकट काल में धार्मिक जनमोर्चा के तत्वावधान में शनिवार को...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here